‘केविन पीटरसन’ की वापसी से इंग्लैंड टीम में विद्रोह फूट सकता था

अंग्रेजी क्रिकेट के प्रशंसकों को केविन पीटरसन को इंग्लैंड सेटअप से हटाये जाने के पीछे कारण जानकर झटका लग सकता है. कुछ चौंका देने वाली रिपोर्ट्स के अनुसार इंग्लैंड टेस्ट क्रिकेट टीम के कप्तान ‘अलस्टियर कुक’ ने कहा था कि अगर ‘पीटरसन’ को वापिस बुलाया गया तो वे अंग्रेजी क्रिकेट सेटअप से बाहर चले जाएंगे.

‘सर्रे’ के लिए शानदार 355* की पारी खेलने के बाद पीटरसन को टीम में वापस बुलाने की संभावना थी. लेकिन अगले ही दिन ‘एंड्र्यू स्ट्रॉस’ ने यह स्पष्ट कर दिया कि केविन की वापसी के लिए कोई रास्ता नहीं है. स्ट्रॉस ने कहा कि पीटरसन के साथ एक बड़े पैमाने पर विश्वास को लेकर मुद्दा था. स्ट्रॉस पर इंग्लैंड की ओर से केविन के निर्वासन का विस्तार करने के लिए दबाव डाला जा रहा था. कई इंग्लैंड  खिलाडी और सहयोगी स्टाफ पीटरसन के खिलाफ थे और किसी भी कीमत पर उसे नहीं चाहते थे.

वो ‘कुक’ थे जिन्होंने सभी खिलाडियों का प्रतिनिधत्व किया और कप्तान की कमान संभाली. अगर केविन को एक और मौका दिया जाता तो कुक क्रिकेट के सभी रूपों को छोड़ देते. सिर्फ कुक ही नहीं इंग्लैंड के कई अन्य खिलाडी भी ऐसा कठोर कदम उठाते और विद्रोह करते. अगर ऐसा होता तो इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड उदासी में डूब गया होता.

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड के सदस्य ने कहा कि “कई ऐसे लोग हैं जो वाकई केविन के सौदा होने पर इंग्लैंड टीम छोड़ चले जाते. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से पीटरसन ने कई लोगों के लिए जीवन अविश्वसनीय रूप से मुश्किल बना दिया था. और अब फिर उसके वापिस आने के विचार ने सब को भयभीत कर दिया था.”

Related Topics