आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट से सन्यास लिया

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट के सभी प्रारूपो से रिटायरमेंट की घोषणा कर दी है। 2004 में चोपड़ा ने अपना अंतिम टेस्ट मैच खेला था, संवाददाताओं से अपने रिटायरमेंट की घोषणा करते हुए इन्होने कहा कि मै अपने करियर से ‘’संतुष्ट और खुश’’ हूं।

बीसीसीआई सचिव संजय पटेल ने भी चोपड़ा को शानदार करियर के लिये बधाई और भविष्य के लिये शुभकामनाएं दी। बीसीसीआई द्वारा एक जारी बयान में पटेल ने कहा, ‘‘आकाश चोपड़ा भारत के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक थे। उनका प्रथम श्रेणी करियर लंबा और शानदार रहा, तथा दिल्ली और राजस्थान की तरफ से खेलते हुए उन्होंने रणजी ट्राफी जीती थी। वह 2003-04 के दौरान पाकिस्तान में टेस्ट श्रृंखला जीतकर इतिहास रचने वाली टीम के प्रमुख सदस्य थे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बीसीसीआई की तरफ से मैं उन्हें इस यादगार पारी के लिये बधाई देता हूं और उनके सुखद भविष्य की कामना करता हूं।’’

2003-04 के दौरान भारत कि ओर से वीरेंदर सहवाग के साथ साझेदारी निभाते हुए चपड़ा ने अच्छी पारी खेली थी, उस समय इन्होने कहा था कि, मेरी भूमिका केवल गेंद को रोकते हुए एक ओर दृढ़ बने रहना था। चोपड़ा ने भारत की ओर से 10 टेस्ट मैच खेले है, जिनमे उन्होंने दो अर्धशतक मरते हुए 437 रन जोड़े थे। इनका रिकॉर्ड प्रथम श्रेणी का रहा है, अबतक इन्होने 162 मैच खेल कर 45.35 के ओसत पर 10,839 रन जोड़े है, जिनमे 29 शतक भी शामिल है। धर्मशाला में पंजाब की ओर से हिमाचल प्रदेश के बिरुद्ध 2012 में इन्होने अपना पहला प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला था। 

Related Topics