शाहिद अफरीदी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

शाहिद अफरीदी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास 

शाहिद अफरीदी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास

विश्व क्रिकेट के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में से एक पाकिस्तानी स्टार ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी ने इंटरनेशनल के सभी तरह की क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। रविवार को संन्यास की घोषणा करने वाले 36 साल के अफरीदी ने पहले ही टेस्ट और वनडे क्रिकेट को बाय-बाय कह चुके है, लेकिन टी-20 स्पेशलिस्ट होने के कारण वो अपनी राष्ट्रिय टीम से टी-20 क्रिकेट खेलना चाहते थे।

शाहिद अफरीदी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास 1

शारजाह में खेले जा रहे पाकिस्तान सुपर लीग के कराची किंग्स और पेशावर जुल्मी के बीच हुए मैच के बाद अफरीदी ने संन्यास की घोषणा की। इस मैच में पेशावर जुल्मी के लिए खेल रहे अफरीदी ने 28 गेंदो पर 54 रनों की विस्फोटक पारी खेली। मैच के बाद अफरीदी ने कहा कि मैं इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह रहा हूं और मैं अपने फैंस के लिए खेलना जारी रखूंगा और इस लीग में 2 साल और खेलता रहूंगा।फिक्सिंग में पकड़े जाने वाले खिलाड़ियों के लिए पीसीबी को कड़े कदम उठाने होंगे : शाहिद अफ़रीदी

अभी मेरा फाउंडेशन मेरे लिए ज्याद मायने रखता है और मैं अपने देश के लिए पूरी तरह पेशेवर और गंभीरता से खेला।

विश्व क्रिकेट के सबसे अच्छे ऑलराउंडरो मेे शुमार पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी ने अपना अंतिम इंटरनेशनल क्रिकेट मैच मार्च 2016 में विश्व कप के दौरान खेला जहां पाकिस्तान ग्रुप स्टेज में ही बाहर हो गया था। अफरीदी ने अपने करियर की शुरूआत 1996 की थी। उन्होनें अपने पूरे इंटरनेशनल करियर में 10,645 रन बनाने के साथ ही 540 विकेट भी हासिल किए है। अफरीदी के अलावा इंटरनेशनल क्रिकेट में 10 हजार रन और 500 विकेट लेने का करनामा सिर्फ द. अफ्रीका के महान ऑलराउंडर जेक्स कैलिस ने ही किया है।सरफ़राज़ के पास तीनों फॉर्मेटस में कप्तानी करने की योग्यता है: शाहिद अफरीदी 

अफरीदी ने महज 18 साल की उम्र में ही 37 गेंदो में शतक की रिकॉर्ड तोड़ पारी खेलकर अपने करियर का जबरदस्त आगाज किया था। लेकिन धीरे-धीरे अपनी स्पिन गेंदबाजी को धार देने के चक्कर में अफरीदी बल्लेबाजी में इतना खास नहीं कर पाए, लेकिन उन्होने विस्फोटक बल्लेबाजी करना जारी रखा और अपने करियर में 11 शतकिय खेली।

Related posts