धोनी का आश्विन को फुल कोटा ओवर ना कराए जाने का अगरकर ने किया समर्थन

Gautam / 10 May 2016

आईपीएल मैच के दौरान राइजिंग पुणे सुपरजायन्ट्स के कप्तान धोनी के द्वारा आश्विन से फुल ओवर कोटा ना कराए जाने के फैसले का पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज़ अजित अगरकर ने समर्थन किया हैं. अगरकर को लगता है,कि धोनी को आश्विन पर पूरा भरोसा हैं.
अगरकर ने कहा “इस वक़्त देखने में थोड़ा अजीब लग रहा है, लेकिन मुझे नहीं लगता धोनी का आश्विन पर से थोड़ा सा भी भरोसा कम हुआ हैं. पिछले मैच में जब पुणे की टीम मुंबई के विरुद्ध मैच खेलने वानखेड़े मैदान पर आई तो वहा पिच तेज गेंदबाजो की मददगार मिली, और वहा आश्विन की गेंदबाजी की जरुरत नहीं थी.”

आईपीएल का पहला मैच जो कि 9 अप्रैल को खेला गया, उसमे  तेज गेंदबाजो की मददगार पिच पर धोनी ने आश्विन से सिर्फ एक ही ओवर कराया था. मुंबई मैच में 8 विकेट खोकर 121 रन बना सकी और पुणे ने मैच आसानी से जीत लिया था.
अगरकर ने कहा “आपको याद होगा जब आईपीएल में चेन्नई की पिच स्पिन गेंदबाजो की मददगार होती थी तो धोनी आश्विन से गेंदबाजी की शुरुआत कराते थे, यह सब परिस्तिथि पर निर्भर करता हैं”.

अगरकर आईपीएल के उन चार पूर्व क्रिकेटरो में शामिल है जो ये क्रिकेट वेबसाइट पर आईपीएल से सम्बंधित शो “दी फ्रेंडली टोस्ट” को होस्ट करते हैं. अगरकर के साथ ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर डर्क नेनिस, दक्षिण-अफ्रीका के कल्लियन और न्यूज़ीलैण्ड के इयान ओ ब्रेन भी एक कार्यक्रम में दिखाई देते हैं.

टी-ट्वेंटी विश्वकप में मुंबई के वानखेड़े मैदान पर वेस्ट-इंडीज के हाथो मिलने के बाद एक बड़ा विवाद उत्पन्न हो गया था. इस मैच धोनी ने आश्विन से पॉवर-प्ले में 2 ओवर कराये थे उसके बाद उन्हें दोबारा गेंदबाजी नहीं दी गयी थी.

मुंबई इंडियंस के विरुद्ध मैच से पहले एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान आश्विन से वेस्ट-इंडीज के विरुद्ध हार के बारे में एक पत्रकार ने सवाल किया तो आश्विन ने पत्रकार से कहा कि “जब वहाँ ओस  थी, तो मैंने गेंदबाजी नहीं की. इसलिए इससे अच्छा यह होगा, कि आप उनसे यह सवाल करो जिसने गेंदबाजी किया थी. मैं इमानदारी से कहूँ तो मुझे नहीं पता मैदान पर ओस कब आई क्यूंकि मैंने पहली 12 गेंदों पर अच्छी गेंदबाजी की साथ ही मैंने विकेट लेने के अवसर बनाए. यह मेरे लिए आश्चर्यजनक है, कि आप किस तरह का सवाल उठा रहे है”.

धोनी ने मैच के बाद वेस्ट-इंडीज के विरुद्ध हार की जिम्मेदार ख़राब गेंदबाज़ी नहीं बल्कि ओस को हार जिम्मेदार ठहराया था.