गुड़ी पड़वा के शुभ अवसर पर रहाणे की कप्तानी में मिली जीत के बाद उनके पिता ने बताया रहाणे के बचपन का अनोखा पल | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

गुड़ी पड़वा के शुभ अवसर पर रहाणे की कप्तानी में मिली जीत के बाद उनके पिता ने बताया रहाणे के बचपन का अनोखा पल 

गुड़ी पड़वा के शुभ अवसर पर रहाणे की कप्तानी में मिली जीत के बाद उनके पिता ने बताया रहाणे के बचपन का अनोखा पल

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच धर्मशाला में हुए मैच में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया की टीम को 8 विकेट से हराया और सीरीज को 2-1 से अपने नाम कर लिया. इस मैच में भारतीय टीम की कप्तानी अजिंक्य रहाणे कर रहे थे, क्योंकि भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली चोटिल होकर इस मैच बाहर हो गए थे.  अजिंक्य रहाणे की बल्लेबाज़ी से नाख़ुश सौरव गांगुली ने कहा लापरवाह हो गया है वो

रहाणे के पिता का नाम मधुकर रहाणे है. वह कबड्डी और खो-खो के खिलाड़ी थे. उन्होंने भारतीय टीम को धर्मशाला में मिली जीत को अपने लिए गिफ्ट माना है और कहा है, कि यह जीत हमारे लिए हमारे बेटे की तरफ़ से गुडी पडवा का गिफ्ट है.

मधुकर ने आगे कहा, “रहाणे ने हमारे लिए यह एक यादगार पल बना दिया है. उसने अपने टेस्ट कप्तानी करियर का पहला टेस्ट मैच जीता है, वो भी इतना बड़ा और सीरीज का निर्णायक टेस्ट मैच. हमें उस पर बहुत गर्व है और हम उसके लिए बहुत खुश है.”       आखिरी टेस्ट मैच में खेलने के साथ रहाणे ने इस विशेष सूची में बनाई जगह

मधुकर ने आगे रहाणे के बचपन के दिन को याद करते हुए कहा, “मुझे याद है, वह दिन जब पहली बार रहाणे ने क्रिकेट की दुनिया में कदम रखा था. उस समय वह 8 साल का था. जब उसके कोच ने उसे पहले दिन ही एक फोटो दिखाई थी और कहा था, कि ऐसा बनना चाहते हो तो, रहाणे ने तुरंत हाँ कर दी थी. वह फोटो महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर थी.”

मधुकर ने आगे कहा, “इस मैच के पहले दिन सुबह अजिंक्य ने हमें फोन किया था और बताया, कि वह आज भारतीय टीम की कप्तानी करेगा, इसीलिए उसे हमारा आशीर्वाद चाहिए. यह सुनकर हम बहुत खुश हुए. हमने कभी नहीं सोचा था, कि रहाणे कभी भारतीय टीम की कप्तानी करेगा.”   धर्मशाला में विराट के बिना जीत हासिल करने के बाद आया अजिंक्य रहाणे का बड़ा बयान

Related posts