विराट कोहली

भारतीय बल्लेबाज तथा टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे मौजूदा दौर के सबसे अच्छे टेस्ट बल्लेबाजों में से एक माने जाते हैं. आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में वो 7वें नंबर पर हैं. हालांकि उनके करियर में एक मौका ऐसा भी आया था जब उनका टेस्ट प्लेइंग इलेवन में भी जगह बना पाना मुश्किल हो गया था.

टीम इंडिया जब साल 2017-18 में साउथ अफ्रीका दौरे पर गई थी तो कप्तान विराट कोहली ने उन्हें पहले टेस्ट की प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं दी थी. अब उस घटना पर अजिंक्य रहाणे ने बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि प्लेइंग इलेवन में उनका नाम होना किसी झटके से कम नहीं था.

अजिंक्य रहाणे ने कहा भारतीय प्लेयिंग इलेवन से बाहर होना था बहुत दुखद

राजस्थान रॉयल्स

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में अजिंक्य रहाणे ने खुलासा किया कि केपटाउन टेस्ट की प्लेइंग इलेवन से बाहर होना उनके लिए किसी सदमे से कम नहीं था. रहाणे ने कहा, ‘उस लम्हे से गुजरना मेरे लिए बेहद मुश्किल था. मुझे खुद को सही स्थिति में लेन में 10 से 15 मिनट लगे. उसके बाद मैंने सोचा नहीं ये टीम की बेहतरी के लिए है. अगर टीम मैनेजमेंट सोचता है कि ये प्लेइंग इलेवन सही है तो ये सही ही है.’

अजिंक्य रहाणे ने खोले टीम इंडिया से जुड़े कई राज, बताया विराट कोहली ने क्यों किया था साउथ अफ्रीका में टीम से बाहर 1

अजिंक्य रहाणे ने आगे कहा

अजिंक्य रहाणे

‘क्रिकेट एक टीम का खेल है. मैंने अपने कोच से यही सीखा है कि जब आपको बाहर किया जाता है तो आपको तभी तक बुरा लगता है जबतक आप उसकी बड़ी तस्वीर नहीं देखते. उस मैच में टीम मैनेजमेंट जिस संयोजन के साथ उतरी वो कामयाब हुआ या नहीं, इससे फर्क नहीं पड़ता. मैंने टीम के फैसले का सम्मान किया.’

बता दें केपटाउन टेस्ट में टीम इंडिया को 72 रनों से हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद रहाणे को सेंचुरियन टेस्ट में भी मौका नहीं दिया था और भारतीय टीम इस मैच को भी 135 रनों से गंवा बैठी थी और उसके हाथों से टेस्ट सीरीज भी निकल गई थी.

जोहान्सबर्ग टेस्ट में अजिंक्य रहाणे ने खेली 48 रन की उपयोगी पारी 

अजिंक्य रहाणे ने खोले टीम इंडिया से जुड़े कई राज, बताया विराट कोहली ने क्यों किया था साउथ अफ्रीका में टीम से बाहर 2

टीम इंडिया ने सीरीज गंवाने के बाद तीसरे टेस्ट में रहाणे को प्लेइंग इलेवन में जगह दी. जोहान्सबर्ग की मुश्किल पिच पर रहाणे ने दूसरी पारी में टीम इंडिया की ओर से सबसे ज्यादा 48 रनों की पारी खेली. भारतीय टीम ने 63 रनों से ये मैच अपने नाम किया. इस मैच के हीरो 5-5 विकेट लेने वाले शमी और बुमराह थे लेकिन रहाणे की ये पारी भी टीम इंडिया की जीत की वजह बनी थी.