अजिंक्य रहाणे ने बताया, राहुल द्रविड़ के किया मार्गदर्शन

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

अजिंक्य रहाणे ने बताया, विश्व टीम में नहीं मिली थी जगह तो इस दिग्गज के मार्गदर्शन से सदमे से उबरा 

अजिंक्य रहाणे ने बताया, विश्व टीम में नहीं मिली थी जगह तो इस दिग्गज के मार्गदर्शन से सदमे से उबरा

भारतीय टेस्ट टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे इन दिनों बेहतरीन फॉर्म में चल रहे हैं. उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट टीम में शानदार वापसी करते हुए अपनी बल्लेबाजी से टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई है. लेकिन आईसीसी विश्व कप के दौरान अजिंक्य रहाणे को टीम में जगह नहीं मिली थी, जिसके चलते वह काफी निराश हो गए थे. अब जबकि वह अपने अच्छे दौर में वापस लौट चुके हैं तो उन्होंने बताया कि किसने उन्हें उस बुरे वक्त में संभाला.

खिलाड़ी के तौर पर नहीं इंसान के तौर पर भी सीखा बहुत कुछ

अजिंक्य रहाणे ने बताया, विश्व टीम में नहीं मिली थी जगह तो इस दिग्गज के मार्गदर्शन से सदमे से उबरा 1

अजिंक्य रहाणे को विश्व कप टीम में जगह नहीं मिली थी. जबकि इससे पहले रहाणे अच्छे फॉर्म में चल रहे थे. इसपर पीटीआई से बात करते हुए रहाणे ने कहा,

‘कभी-कभार हम सफलता का पीछा करने में ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं और तब हमें अचानक महसूस होता है कि हमें बैठकर आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है. जब मुझे 2019 वर्ल्ड कप के लिए टीम में नहीं चुना गया तो मैंने बिलकुल ऐसा ही किया.’

‘इस समय मैं बहुत अच्छी स्थिति में हूं और यह वेस्ट इंडीज सीरीज से शुरू हुआ. मैं इंग्लैंड में था, काउंटी क्रिकेट खेल रहा था जिस दौरान मैंने सिर्फ क्रिकेटर के तौर पर नहीं बल्कि इंसान के तौर पर काफी कुछ सीखा.’

राहुल द्रविड़ ने किया मार्गदर्शन

अजिंक्य रहाणे

विश्व कप टीम में जगह न मिलने से अजिंक्य रहाणे काफी निराश थे. इस वक्त में टीम इंडिया के दिग्गज राहुल द्रविड़ ने अजिंक्य रहाणे की मार्गदर्शन किया. इस बारे में बात करते हुए रहाणे ने कहा,

‘राहुल भाई से बातचीत ने भी मेरी मदद की कि मुझे अपनी बल्लेबाजी को बिलकुल आसान रखना चाहिए. एक बार में एक मैच के बारे में सोचो. पॉजिटिव सोच रखो. अब अच्छी स्थिति में हूं. जो पहले हुआ, वह हो चुका है. अब आगे की बातों के बारे में सोचना होगा.’

 

सिर्फ मैदान के अंदर नहीं बाहर की चीजें भी सीखीं

रहाणे ने आगे कहा,

 ‘दो महीनों में मैंने 7 मैच खेले, इसलिए मैंने सिर्फ मैदान के अंदर की चीजें नहीं सीखीं बल्कि मैदान के बाहर की बातें भी सीखीं. कभी पार्क में अकेला पैदल चला, कभी जॉगिंग की, कभी आराम से बैठकर कॉफी पीते हुए पिछले दिनों के बारे में सोचता था.

यह भी सोचता कि जब मैंने अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया था, उससे पहले जब मैं क्लब क्रिकेट या उम्र ग्रुप के क्रिकेट खेलता था तो कैसा महसूस करता था.’

बेहतरीन फॉर्म में हैं अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे

वेस्टइंडीज दौरे से ही अजिंक्य रहाणे अच्छे फॉर्म में हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ एक शतक, 2 अर्धशतक लगाने के बाद रहाणे घरेलू सीरीज में भी फॉर्म  जारी रखते हुए साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज में टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. पिछली चार पारियों में रहाणे ने 1 शतक और 3 अर्धशतक बनाए हैं.

Related posts