धोनी

यह बात किसी से छिपी नहीं है कि शोएब अख्तर सुर्ख़ियों में बने रहने का कोई मौका नहीं छोड़ते. किसी ना किसी बहाने वह चर्चा में बने रहने का अवसर खोज ही निकलते है. भारतीय टीम को लेकर तो आए दिन अख्तर कोई ना कोई बयान देते ही नजर आते हैं. अब इसी क्रम में उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को लेकर कुछ ऐसी टिप्पणी की है, जिसे जानकर आप भी सख्ते में आ जाएंगे.

धोनी नहीं ये हैं बेहतर कप्तान

पाकिस्तान

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी पर टिप्पणी की है. रावलिपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर अख्तर ने हेलो एप पर लाइव चैट के दौरान धोनी को भारत के सबसे सफल कप्तान मानने से इनकार कर दिया है. शोएब अख्तर ने गांगुली को सर्वश्रेष्ठ भारतीय कप्तान बताते हुए कहा,

‘’अगर मैं भारत के सबसे सफल कप्तान के बारे में बात करता हूं, तो वह सौरव गांगुली होंगे. भारत ने उनसे बेहतर कप्तान नहीं देखा. धोनी बहुत अच्छे हैं, वह एक शानदार कप्तान हैं, लेकिन जब आप टीम निर्माण की बात करते हैं तो गांगुली ने बहुत अच्छा काम किया.”

शानदार रहा सौरव गांगुली का करियर

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली मौजूदा वक्त में बीसीसीआई प्रेसिडेंट के पद पर विराजमान हैं. मगर आप यदि गांगुली की कप्तानी की बात करें, तो भले ही उन्होंने भारत को एक भी आईसीसी खिताब नहीं जिताया, लेकिन वह भारत के सफल कप्तानों में से एक माना जाता है.

गांगुली ने कप्तान के रूप में 146 एकदिवसीय और 49 टेस्ट मैचों में भारत का नेतृत्व किया. इस दौरान उन्हें वनडे में 76 जीत और 65 हार का सामना करना पड़ा. जबकि टेस्ट में उन्होंने 21 मैच जीते और एक ड्रॉ में 15 मैचों की समाप्ति के साथ 13 हार का सामना करना पड़ा.

दादा ने भारत के लिए 113 टेस्ट व 311 एकदिवसीय मैच खेले हैं. जिसमें क्रमश: 7212 व 11363 रन बनाए हैं. गांगुली ने अपनी कप्तानी के दौरान भारतीय टीम को बुरे वक्त से संभाला था.

बहादुर कप्तान थे गांगुली

अभी हाल ही में कुछ दिन पहले सौरव गांगुली की तारीफ करते हुए शोएब अख्तर ने सौरव गांगुली को बहादुर कप्तान भी बताया था. उन्होंने कहा था कि,

“उनके पास ज्यादा शॉट्स नहीं थे और मैंने कई बार उनकी छाती पर हिट करने की कोशिश की थी. इसके बावजूद वो ओपनर के तौर पर बल्लेबाजी करने आते थे और एक बहादुर इंसान की तरफ मुझे फेस करते थे और रन बनाते थे. वो टीम इंडिया के एक बहादुर कप्तान थे.”