सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के बाद अब इस दिग्गज ने भी किया भारतीय टीम के चैंपियंस ट्रॉफी में खेलने का समर्थन 1

आईसीसी और बीसीसीआई के बीच चल रहे मतभेद पर अंकुश लगने के आसार हैं। हालांकि स्थिति साफ नहीं हैं। सीएओ यानि प्रशासकीय समिति ने भारतीय टीम को चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए टीम घोषित करने को कहा है। सीएओ ने इसके लिए विराट कोहली को कप्तान बनाए जाने की घोषणा भी की थी। इस मुद्दे पर भारतीय टीम के कोच अनिल कुंबले ने भी अपना मत रखा है। कुंबले के मुताबिक यह मामला चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए ठीक नहीं है।  श्रीलंकाई खिलाड़ियों की आईपीएल में अनदेखी को लेकर दिग्गज गेंदबाज मुरलीधरन ने दिया चौंकाने वाला बयान

कुंबले का मत और विवाद –

अनिल कुंबले चाहते हैं कि बीसीसीआई और आईसीसी के बीच चल रहे राजस्व विवाद की वजह से चैम्पियंस ट्रॉफी पर गलत असर नहीं पड़ना चाहिए। इसे इन दोनों को मिलकर सुलझा लेना चाहिए। उनके मुताबिक यहां खेलने से खिलाड़ियों को काफी कुछ सीखने को मिलता है, इसलिए भारतीय टीम को भी खेलना चाहिए। अगर यह विवाद जल्दी सुलझ जाता है तो खिलाड़ी अपनी तैयारी भी शुरू करेंगे।

सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के बाद अब इस दिग्गज ने भी किया भारतीय टीम के चैंपियंस ट्रॉफी में खेलने का समर्थन 2

इस मसले की यह है जड़ –

आईसीसी और बीसीसीआई के बीच बिग थ्री मॉडल को हटाने की वजह से विवाद उभरा है। बिग थ्री मॉडल के तहत भारत को 570 मिलियन डॉलर की जगह 293 मिलियन डॉलर का राजस्व ही मिल पायेगा। इस विवाद की वजह से बीसीसीआई ने 15 सदस्यों वाली टीम की घोषणा भी नहीं की थी। इसी वजह से बीसीसीआई इस टूर्नामेंट में हिस्सा न लेने की भी सोच रहा था। हालांकि बाद में इस विचार को त्याग दिया।  रोहित शर्मा ही नहीं बल्कि ये खिलाड़ी भी है चैंपियंस ट्रॉफी के लिए सलामी बल्लेबाज़ी के प्रबल दावेदार

अनिल से पहले कई दिग्गज खिलाड़ी ने बताए हैं अपने विचार –

अनिल कुंबले अकेले ऐसे खिलाड़ी नहीं हैं जो इस के पक्ष में खड़े हुए हैं। इनसे पहले सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ ने भी भारत के चैम्पियंस ट्रॉफी  में खेलने का समर्थन किया था। इन सभी खिलाड़ियों के मुताबिक इस बड़े मौके को नहीं छोड़ना चाहिए। वहीं कुंबले चाहते हैं कि टीम की घोषणा से चैम्पियंस ट्रॉफी की तैयारी में आसानी होगी।