वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरिज के बाद बड़ी मुसीबत में फँसने वाले है कोच अनिल कुंबले

sudhanshu / 21 August 2016

हमने अनिल कुंबले से जो आशा की थी वो उस पर शत प्रतिशत खरे उतर रहे हैं. वेस्टइंडीज दौरे पर भारत सीरीज में अजेय बढ़त बनाये हुए है और चौथा मैच अभी जारी है. इनके चयन के समय में इनके पुरे करियर को देखा गया साथ ही प्रेजेंटेशन कि आप नया क्या कर सकते हो, आज परिणाम सबके सामने है. कुंबले अपने 20 साल के अनुभव को हमसे साझा कर रहे हैं. वेस्टइंडीज दौरे पर चौथे टेस्ट में क्यों भावुक हुये विराट कोहली?

एक बार फिर भारतीय टीम से जुड़ने वाले है गुरु गैरी क्रिस्टन

यह वही कुंबले हैं जिनका वेस्टइंडीज के ही खिलाफ 2001 में मार्व ढिल्लन की बाउंसर पर जबड़ा टूट जाने के बावजूद भी वो गेंदबाज़ी करने आये और ब्रायन लारा जैसे महान खिलाड़ी का विकेट लिया. इतना ही नही 132 टेस्ट में 619 विकेट जबकि 271 एकदिवसीय मैच में 337 विकेट लिया है. पाकिस्तान के साथ आज भी वो  मैच याद आता है जिसमे उन्होंने पूरी टीम को ही आउट कर दिया था.

 

https://www.youtube.com/watch?v=AqCHkYuiJW8

https://www.youtube.com/watch?v=zKpG5S6-RSI

 

अभी वेस्टइंडीज दौरा खत्म होने के बाद भारत को न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, बांग्लादेश से मैच खेलना है. ऐसे में टेस्ट और एकदिवसीय मैच में अलग कैप्टन होंगे, अब इनसे सामंजस्य बैठाना. इस तरह की कई चुनौतिया देखने को मिलेंगी. भारत का प्रदर्शन शुरू से ही उपमहाद्वीप में सही रहा है ,लेकिन बाहर उतना नही.

जहाँ पिछले कुछ सालो का प्रदर्शन देखे तो यह ऊपर निचे होते रहा है. रैंकिंग को देखकर तो कुछ परेशानी कम हो सकती है, लेकिन यह काफी नहीं है. केवल रैंकिंग से यह नही सुधरेगा. भारत को सभी क्षेत्रो में बढ़िया प्रदर्शन करना होगा. 5 भारतीय बल्लेबाज़ जिन्होंने एशिया के बाहर एकदिवसीय क्रिकेट में लगाए सबसे ज्यादा शतक

कुंबले बहत ही अनुशासन प्रिय है जिसका नज़ारा हमें अभ्यास में देखने को मिलता है, जिसमे कोई भी कोताही नही बरती जाती. इस तरीके का अनुसाशन बहुत ही आवश्यक है, क्योंकि जैसे क्रिकेट अब अन्तराष्ट्रीय लेवल पर आता जा रहा है उसे देखर यह कदम सही है.

मुसीबत में फंसी तमिलनाडु प्रीमियर लीग, लेकिन टीम और खिलाड़ियों की जारी हुई सुची

अपने समझदारी और निर्णय लेने की क्षमता में माहिर जम्बो (कुंबले) को कुछ ऐसे ही कठिन रास्ते पर चल कर जो उतार चढ़ाव आ रहा है, उसे एक समान करने का प्रयास करेंगे.उनकी यह क्षमता भारत को आगामी सीरीज में देखने को मिलेगी जिसकी कामना हम कर सकते हैं.