चार दिन के टेस्ट की योजना पर अनिल कुंबले ने रखी अपनी बात

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

क्या वाकई में होनी चाहिए चार दिन के टेस्ट की शुरुआत? अनिल कुंबले ने पहली बार इस विषय पर रखी अपनी राय 

क्या वाकई में होनी चाहिए चार दिन के टेस्ट की शुरुआत? अनिल कुंबले ने पहली बार इस विषय पर रखी अपनी राय

क्रिकेट के सबसे पुराने और ऐतिहासिक फॉर्मेट टेस्ट क्रिकेट अपनी पूरी रफ्तार के साथ आगे बढ़ता जा रहा है। टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत हुए करीब 143 साल का समय हो चुका है लेकिन लाल गेंद की क्रिकेट की चमक अब तक कायम है जो अपने पूरे शबाब पर है। टेस्ट क्रिकेट में पांच दिनों का खेल शुरुआत से ही खेला जा रहा है जिसका अपना ही एक खास इतिहास है।

टेस्ट क्रिकेट को चार दिनों के करने की मांग जोरों

टेस्ट क्रिकेट का चलन बहुत ही सफलतापूर्वक पांच दिनों के खेल के साथ चला आ रहा है लेकिन अब इसे चार दिन के खेल के रूप में बदलने की मांग की जा रही है। क्रिकेट जगत के कई पूर्व दिग्गज खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट को चार दिनों का करने की बात कर रहे हैं।

क्या वाकई में होनी चाहिए चार दिन के टेस्ट की शुरुआत? अनिल कुंबले ने पहली बार इस विषय पर रखी अपनी राय 1

टेस्ट क्रिकेट को चार दिनों का करने की बात ना केवल क्रिकेट पंडित और पूर्व दिग्गज खिलाड़ी कर रहे हैं बल्कि आईसीसी खुद भी टेस्ट क्रिकेट को चार दिनों के करने के बारे में विचार कर रहा है। जिसको लेकर इन दिनों खास चर्चा है।

अनिल कुंबले हैं टेस्ट क्रिकेट को चार दिवसीय की मांग के खिलाफ

भले ही हर कई पूर्व दिग्गज टेस्ट क्रिकेट को चार दिनों के करने का भरपूर समर्थन कर रहे हैं जिसको लेकर आईसीसी के चैयरमैन शशांक मनोहर ने कहा था कि टेस्ट क्रिकेट मर रहा है। लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी अनिल कुंबले ने इसे पूरी तरह से गलत करार दिया है।

क्या वाकई में होनी चाहिए चार दिन के टेस्ट की शुरुआत? अनिल कुंबले ने पहली बार इस विषय पर रखी अपनी राय 2

भारत के महान स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले ने टेस्ट क्रिकेट के चार दिनों के करने वाली मांग पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि मुझे इस बारे में जो भी लगता है कि मैं इसके बारे में सोचता हूं कि खिलाड़ियों ने इसे दिया है। मेरा मतलब है कि वे चार दिवसीय टेस्ट नहीं चाहते हैं।

कुंबले की तरह ही विराट कोहली भी रख चुके हैं अपने विचार

अनिल कुंबले ने आगे कहा कि “पांच दिन का टेस्ट क्या है, क्योंकि ये पांच दिन का होता है तभी तो टेस्ट क्रिकेट है। अगर ये चार दिन का होता तो ये एक टेस्ट क्रिकेट नहीं होता। मैं इस पर बहुत ही स्पष्ट हूं।”

क्या वाकई में होनी चाहिए चार दिन के टेस्ट की शुरुआत? अनिल कुंबले ने पहली बार इस विषय पर रखी अपनी राय 3

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी हाल ही में टेस्ट क्रिकेट को लेकर इसी तरह के विचार को प्रकट किया था। कोहली का भी मानना है कि टेस्ट क्रिकेट चार दिनों में अपना मूल्य खो देगा। अब अनिल कुंबले ने ऐसे विचार सामने रखे हैं। कुंबले खुद आईसीसी में काफी समय तक अहम पद पर रहे हैं ऐसे में उनका व्यू खास मायने रखता है।

Related posts