लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट पर शुरूआती कोच ने दिया जवाब

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब

भारतीय स्टार खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी मतलब लाखों क्रिकेटर प्रेमियों के लिए प्रेरणा। छोटे से शहर रांची के इस लड़के ने क्रिकेट जगत में अपने नाम का लोहा मनवाया है। लेकिन वर्ल्ड कप 2019 में उनकी धीमी बल्लेबाज़ी के कारण उन्हें कई प्रकार की आलोचनाओं का शिकार होना पड़ रहा है। हालांकि इस बीच उनके प्रशंसक अभी भी उनसे प्यार करने वालों की कमी नहीं आई है।

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 1

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 2

वहीं कई लोगों का मानना है कि अब धोनी की उम्र हो चुकी है और उन्हें संन्यास ले लेना चाहिए। इसपर धोनी के शुरूआती कोच केशव रंजन बनर्जी ने बीसीसी को दिए साक्षात्कार में धोनी के प्रति प्यार को ज़ाहिर करते हुए उनके संन्यास पर अपनी बात रखी।

धोनी के रिटायरमेंट पर कोच ने कही यह बात

धोनी की धीमी बल्लेबाजी के लिए उन्हें लगातार आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। जिसपर कई लोगों का मानना तो यहां तक है कि उन्हें अब संन्यास ले लेना चाहिए। इसपर धोनी के शुरूआती कोच केशव रंजन बनर्जी ने कहा, कि हर क्रिकेटर की जिंदगी में यह वक्त आता है जब दुनिया उनके खिलाफ बोलने लगती है।

महान खिलाड़ी सचिन की जिंदगी में भी यह वक्त आया था। मुझे नहीं लगता की इस छोटी सी बात का बतंगड़ बनाना चाहिए बल्कि सभी को मिलकर धोनी को इस परिस्थिति में सपोर्ट करना चाहिए।

धोनी को बनाया जा रहा बलि का बकरा

इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टीम के प्रदर्शन पर कोच ने कहा कि, बात यहां कुछ ऐसी है कि धोनी को बलि का बकरा बनाया जा रहा है। उनकी उम्र हो गई है इसलिए हर कोई उनपर ही निशाना साध रहा है।

उन्होंने उदारहण देते हुए कहा कि जैसे मां-बाप के बूढ़े होने के बाद हर कोई उन पर ही चिल्लाता है, वैसा ही टीम इंडिया में भी हो रहा है।

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 3

लेकिन यदि धोनी की फिटनेस की बात करें तो उनकी फिटनेस इस उम्र में भी वैसी है जैसी 22-23 साल के लड़कों की होती है। धोनी की शुरूआती क्रिकेट दौर का किस्सा साझा करते हुए कोच ने कहा कि इंटर कॉलेज के एक मैच में धोनी अचानक से ओपनिंग करने की बात करने लगा, मेरे मना करने के बाद भी वह जिद पर अड़ गया।

लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 4

तो मैंने शर्त रखी की यदि तुम ओपनिंग करोगे तो कोई तीसरा बल्लेबाज पैड नहीं पहनेगा और ठीक वैसा ही हुआ, उसने बेहतरीन क्रिकेट खेला। मैं उसी दिन समझ गया था कि यह लड़का क्रिकेट की दुनिया में कुछ अलग करेगा।

कोच ने साधा कमेंटेटर्स पर निशाना

धोनी के शुरूआती कोच ने कमेंटेटर्स पर निशाना साधते हुए कहा कि, यह जो धोनी की आलोचनाएं की जा रही हैं वह कमेंट्री पैनल में बैठे वह खिलाड़ी कर रहे हैं जिनके पास धोनी जितना एक्सपीरियंस नहीं है। उन्होंने 75 खेल खेले हैं और महेंद्र सिंह धोनी ने 350 मैच खेल चुके हैं। लगातार हो रही धोनी की आलोचना और रिटायरमेंट की बात पर शुरूआती कोच ने दिए तर्कपूर्ण जवाब 5

वह इंसान जिसके पास धोनी जितना एक्सपीरियंस ही नहीं है तो वह कैसे महेंद्र सिंह धोनी जैसे बड़े खिलाड़ी के खेल का आंकलन कैसे कर सकता है कि उन्हें कब संन्यास लेना चाहिए और कब नहीं लेना चाहिए। जब सवाल संन्यास लेने का आता है तो धोनी से बेहतर इसका जवाब कोई नहीं जानता है, यहां तक की उनका परिवार भी नहीं। उन्हें जब तक खेलना है वह खेलेंगे और जब संन्यास लेना होगा तो वह आहिस्ता से बता देंगे।

यहां देखें धोनी के शुरूआती कोच का पूरा वीडियो [ Credit BBC ]

#HappyBirthdayMSD | धोनी के रिटायरमेंट पर क्या कहते हैं उनके शुरुआती कोच केशव रंजन बनर्जीवीडियो – रवि प्रकाश/काशिफ़ सिद्दीक़ी

Gepostet von BBC News हिन्दी am Samstag, 6. Juli 2019

Related posts