बीसीसीआई के निष्कासित अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने इस मामले को लेकर बीसीसीआई पर साधा निशाना | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

बीसीसीआई के निष्कासित अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने इस मामले को लेकर बीसीसीआई पर साधा निशाना 

बीसीसीआई के निष्कासित अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने इस मामले को लेकर बीसीसीआई पर साधा निशाना

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अब तक विवादो में रही है। इस टेस्ट सीरीज में दोनों ही टीमों में मैदान में तनातनी का माहौल रहा है। बैंगलुरू में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ के आउट होने के बाद उनके द्वारा डीआरएस को लेकर ड्रेसिंग रूम की तरफ देखने को लेकर जबरजस्त बवाल मचा था। स्मिथ की इस करतूत की विश्वभर में जमकर आलोचना हुई.

स्मिथ के ड्रेसिंग रूम की तरफ देखने के विवाद को लेकर भले ही विश्वभर में आलोचना हो रही थी। लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया उस विवाद के बाद पूरी तरह स्मिथ के बचाव में उतर पड़ा था। बीसीसीआई ने भी आईसीसी को इस मामले पर एक्शन लेने को कहा, लेकिन इसके बाद बढ़ते विवाद को देखकर बीसीसीआई ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से इस विवाद पर समझौता कर लिया। साथ ही आईसीसी ने स्टीवन स्मिथ पर भी कोई कार्यवाही नहीं की। रिव्यू विवाद को सही से न संभालने पर गुस्सा हुए बीसीसीससी के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर

इसको लेकर भारतीय क्रिकेट कन्ट्रोल बोर्ड के निष्कासित अध्यक्ष और हिमाचल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने बीसीसीआई की जमकर आलोचना की है। बीसीसीआई के साथ लंबे समय तक काम कर चुके अनुराग ठाकुर ने बीसीसीआई की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। लोढ़ा कमेटी की सिफारिश के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीसीसीआई के अध्यक्ष पद से निष्कासित किए जाने के बाद अनुराग ठाकुर बीसीसीआई के खिलाफ बोले है।  हम बीसीसीआई के खिलाफ़ क़ानूनी कार्यवाही करने के लिए बिलकुल तैयार है : शहरयार खान

अनुराग ठाकुर ने कहा कि, “ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान स्टीवन स्मिथ की डीआरएस मामले की गलती पर बीसीसीआई का कारवाई ना करके समझौता करना बहुत गलत है।”

साथ ही अनुराग ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के कार्यकारी अध्यक्ष जेम्स सदरलैंड के विराट कोहली पर दिए बयान पर चिंता जताई और कहा कि, “अधिकारियों की कमी के चलते बीसीसीआई कमजोर हो गया है। विराट के मामले पर अनुराग ने कहा कि कोहली को माफी मांगने की घटना चिंतनीय है और इस मामले पर बीसीसीआई को कड़ा रूख अपनाने की जरूरत है।”

Related posts