आशीष नेहरा का खुलासा, लग रहा था नहीं खेल पाऊंगा 2011 विश्व कप, इस शख्स ने किया तैयार 1

भारतीय क्रिकेट टीम ने साल 2011 में खेले गए विश्व कप को अपने नाम कर इतिहास दोहराया था। भारत ने महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 2011 के विश्व कप में 28 साल के बाद कामयाबी हासिल की थी। ये विश्व कप खिताबी जीत हर भारतीय खिलाड़ी के लिए गौरव का पल रहा तो साथ ही फैंस के लिए ये एक बहुत बड़ी सौगात में से एक रहा।

2011 विश्व कप टीम में खेले नेहरा को नहीं था विश्व कप खेलने की उम्मीद

इस विश्व विजेता टीम में मौजूद हर एक खिलाड़ी के करियर में इस खिताब का खास महत्व है क्योंकि उनका एक बड़ा सपना पूरा हुआ था। इन खिलाड़ियों में से एक भारतीय टीम के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा भी थे।

आशीष नेहरा का खुलासा, लग रहा था नहीं खेल पाऊंगा 2011 विश्व कप, इस शख्स ने किया तैयार 2

टीम के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा इस खास पल के हिस्सा रहे लेकिन उनका इस विश्व कप में खेलना बहुत ही मुश्किल नजर आ रहा था क्योंकि वो इससे पहले पीठ की चोट से जूझ रहे थे। उनका बाहर बैठना तय नजर आ रहा था लेकिन टीम के एक खिलाड़ी ने उन्हें खेलने के लिए राजी किया।

चोट से जूझ रहे नेहरा को धोनी ने किया खेलने को राजी

ये खिलाड़ी और कोई नहीं बल्कि उस दौर में टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी थे। जी हां… ये बात खुद आशीष नेहरा ने इसे लेकर कहा कि

“विश्व कप से पहले मैं वापसी के लिए कड़ा संघर्ष कर रहा था एक समय तो मुझे लगा कि मैं नहीं खेल पाऊंगा। मुझे अभी भी याद है कि प्रवीण कुमार या एक अन्य गेंदबाज चोटिल हो गया था, और श्रीसंत उसका स्थानापन्न था। मैंने एसएस धोनी और सचिन तेंदुलकर से कहा था कि मुझे नहीं लगता कि मैं विश्व कप खेल पाऊंगा। इससे पहले मैं वास्तव में संघर्ष कर रहा था और प्रतिस्थानापन हासिल करना ही बेहतर है।”

आशीष नेहरा का खुलासा, लग रहा था नहीं खेल पाऊंगा 2011 विश्व कप, इस शख्स ने किया तैयार 3

आशीष नेहरा का खुलासा, लग रहा था नहीं खेल पाऊंगा 2011 विश्व कप, इस शख्स ने किया तैयार 4

नेहरा ने

आगे कहा कि और धोनी मुझसे कहते हैं, सुनो, बस एक या दो-तीन हफ्ते के लिए वहीं रूक जाओ। देखिए आपको कैसा लगता है। फिजियो के साथ रहें। उनके साथ इसे सुलझाएं। दो-तीन सप्ताह तक इंतजार करें और फिर देखेंगे कि ये कैसा रहता है।”

फाइनल नहीं खेलने का अफसोस, लेकिन खिताब जीतने से खुश

आशीष नेहरा ने कहा कि

फिर मैंने एक समय में एक मैच खेलना शुरू किया। मैंने हॉलैंड के खिलाफ खेला। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खराब प्रदर्शन रहा और फिर एक मैच में चूक हुई। इसके बाद सेमीफाइनल खेलता हूं, हम जीतते हैं और मैंने अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन फाइनल में फिर से चुक हुई।”

आशीष नेहरा का खुलासा, लग रहा था नहीं खेल पाऊंगा 2011 विश्व कप, इस शख्स ने किया तैयार 5

मुझे बहुत बड़ा फ्रैक्चर था। अंतिम दिन के बाद मैं सर्जरी के लिए ऑस्ट्रेलिया गया। ये बहुत निराशाजनक था लेकिन संतोषजनक ये था कि हमने फाइनल जीता। हमने विश्व कप जीता। ये मेरे लिए एक रोलर-कोस्टर की सवारी थी। लेकिन अंत में, मैंने सुरक्षित रूप से उतरना मैनेज किया।