/

रणजी क्रिकेट में इस भारतीय खिलाड़ी ने लिए सबसे ज्यादा विकेट लेकिन चयनकर्ता लगातार कर रहे है नजरअंदाज

कभी भारतीय टीम में गेंदबाजी करने वाले अशोक डिंडा काफी समय से टीम से बाहर हैं. इस दौरान वह घरेलू क्रिकेट खेल रहे हैं. डिंडा अपनी घरेलू टीम बंगाल के लिए बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे हैं. वह बंगाल टीम के प्रमुख तेज गेंदबाज हैं. अशोक डिंडा का करियर आईपीएल में उतार-चढ़ाव वाला रहा है, लेकिन वह अब बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे हैं. उन्होंने अपनी टीम को रणजी के सेमीफाइनल में पहुंचाने में प्रमुख भूमिका निभाई है.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

हालाँकि, पिछले कई वर्षों से बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे अशोक डिंडा को राष्ट्रीय टीम के चयनकर्ता नजरंदाज कर रहे हैं, इस बात से अशोक डिंडा निराश हैं.

हाल ही में डिंडा ने एक इंटरव्यू  दिया जिसमे उन्होंने, बताया कि उनकीं गेंदबाजी में कैसे परिवर्तन आया, साथ ही वह भारतीय टीम में दोबारा वापसी करने के बारे में क्या सोंचते हैं.

रणजी ट्रॉफी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज-

रणजी क्रिकेट में इस भारतीय खिलाड़ी ने लिए सबसे ज्यादा विकेट लेकिन चयनकर्ता लगातार कर रहे है नजरअंदाज 1

अशोक डिंडा का रणजी सत्र 2017-18 बेहद शानादार रहा है. वह रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों में से एक हैं. उन्होंने अभी तक 33 विकेट लिए हैं. उनकी गेंदबाजी की बदौलत बंगाल सेमी फाइनल तक का सफ़र तय करने में कामयाब रही है. डिंडा की गेंदबाजी में बदलाव साफ़ तौर पर देखा जा सकता है.

डिंडा इस बात को स्वीकार भी करते हैं उन्होंने कहा, ‘मैंने पिछले 5 सालों कड़ी मेहनत की है, इस दौरान मैंने स्विंग लाने में मेहनत की है’.

डिंडा ने कहा, ‘पहले मैं, बैक ऑफ़ लेंथ गेंद डालता था जिस कारण, खिलाड़ी बैक फुट पर जाकर गेंद खेलता था. अब मैं फुल लेंथ गेंद डालता हू, जिससे मुझे स्विंग मिलती है. इस कारण मेरी गेंदबाजी बदल गयी है.’

चयन के सवाल पर यह बोले डिंडा-

रणजी क्रिकेट में इस भारतीय खिलाड़ी ने लिए सबसे ज्यादा विकेट लेकिन चयनकर्ता लगातार कर रहे है नजरअंदाज 2

डिंडा ने कहा, कि “मैंने पिछले 14 मैचों में 8 बार 5 विकेट हॉल पूरा किया है. भारतीय टीम में इसके बावजूद चयन न होने पर निराश डिंडा ने कहा, मैं इस बार में बिल्कुल नहीं सोच रहा कि इस प्रदर्शन के बावजूद मेरा चयन टेस्ट टीम में क्यों नहीं हो रहा है. क्योंकि चयन का अधिकार मेरा नहीं चयनकर्ता का है.”

डिंडा ने बंगाल के लिए 105 प्रथम श्रेणी मैचों में 386 विकेट लिए हैं. जबकि भारत के लिए 22 मैच खेले हैं.