रविचंद्रन अश्विन और विहारी ने बताया उनकी मैराथन साझेदारी के पीछे का राज़, देखें वीडियो 1

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी टेस्ट के ऐतिहासिक ड्रॉ के बाद अश्विन और हनुमा विहारी की साझेदारी पर दुनिया भर से क्रिकेट फ़ैंस और क्रिकेट एक्सपर्ट्स की अलग-अलग राय सामने आई. इस दौरान कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स और क्रिकेट फ़ैंस ने चौथी पारी में भारतीय टीम की बल्लेबाज़ी की तारीफ़ की. तो वहीं कुछ का मानना था कि भारत ने जीत का मौका गंवाया.

इसके अलावा भारतीय टीम के मध्यक्रम बल्लेबाज़ हनुमा विहारी और ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन की चोट के बावजूद ऑस्ट्रेलियाई पेस अटैक के सामने साहिसक साझेदारी को जमकर सराहा गया. मैच खत्म होने के बाद अश्विन और विहारी ने अपनी इस साझेदारी का राज़  क्रिकेट फ़ैंस के साथ शेयर किया.

टीम के लिए खड़े रहना एक खास अहसास – रविचंद्रन अश्विन

ऐतिहासिक साझेदारी

मैच के बाद बीसीसीआई के ट्विटर हैंडल से  शेयर किए गए एक वीडियो में अश्विन और विहारी अपना अनुभव साझा दिया.

ऑलराउंडर अश्विन ने लंबी साझेदारी के बारे में अपनी बात रखते हुए कहा कि,

“बीती रात जब मैं सोने गया था तो पीठ के दर्द के चलते मेरे समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था कि आखिरी दिन मैं कैसे बल्लेबाज़ी करूंगा. अगर पेन ने कुछ कैच नहीं छोड़े होते तो शायद हम इस स्थिति में नहीं होते. लेकिन अपनी टीम के लिए तमाम परेशानियों के बाद भी मैदान पर खड़े रहना काफ़ी खास अहसास होता है.”

अश्विन ने निभाई बड़े भाई की भूमिका – हनुमा विहारी

रविचंद्रन अश्विन और विहारी ने बताया उनकी मैराथन साझेदारी के पीछे का राज़, देखें वीडियो 2

हैमस्ट्रिंग के बावजूद बल्लेबाज़ी करते रहने वाले मध्यक्रम बल्लेबाज़ हनुमा विहारी ने उसी वीडियो में बोलते हुए कहा कि,

“अश्विन पूरी साझेदारी के दौरान  मेरे साथ एक बड़े भाई की  तरह खड़े रहे. ये मुझे बताते रहे कि बस खड़े हो कर गेंदों का अच्छे से समझदारी के साथ सामना करना है. चोट के बावजूद खेलते रहने एक मुश्किल चीज़ ज़रूर होती है लेकिन अपनी टीम के लिए इतने लंबे समय तक मैदान पर खड़े रहना अपने आप में स्पेशल होता है.”

खिलाड़ियों की चोट बनी भारतीय टीम का सरदर्द

रविचंद्रन अश्विन और विहारी ने बताया उनकी मैराथन साझेदारी के पीछे का राज़, देखें वीडियो 3

सिडनी टेस्ट ड्रॉ होने के बाद फिलहाल 4 टेस्ट मैचों की सीरीज़ फिलहाल 1-1 की बराबरी पर है. इसके बाद अब दोनों  टीमों की निगाह ब्रिसबेन में होने वाला चौथा और आखिरी टेस्ट जीत कर सीरीज़ 2-1 से अपने नाम करने पर होगी. इस लिहाज़ से दोनों टीम पर एक दबाव ज़रूर होगा.

भारतीय टीम के लिए चौथे टेस्ट मैच से पहले खिलाड़ियों की चोट एक चिंता का सबब बन चुकी हैं. भारतीय टीम के 4-5 प्रमुख खिलाड़ी पहले ही चोटिल हो चुके थे. लेकिन तीसरे टेस्ट के बाद मुख्य तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह की चोट की ख़बर से भारतीय टीम को एक बड़ा झटका लगा है.