///

भारतीय अंडर-19 स्टार अथर्व अंकोलेकर की मां खुद को नहीं बल्कि इन्हें देती है उनके सफलता का पूरा श्रेय

भारतीय अंडर-19 क्रिकेट टीम ने हाल ही में यूथ एशिया कप का खिताब अपने नाम किया। शनिवार को भारतीय यूनियर क्रिकेट टीम ने खिताबी मुकाबले में बांग्लादेश के जूनियर खिलाड़ियों को मात देकर अंडर-19 एशिया कप को 7वीं बार अपने नाम करने में सफलता हासिल की।

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

भारतीय जूनियर टीम के खिलाड़ी अथर्व बटोर रहे हैं सुर्खियां

भारतीय जूनियर टीम की इस सफलता में महाराष्ट्र के युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी अथर्व अंकोलेकर ने अपनी जबरदस्त छाप छोड़ी और रातों-रात सुर्खियों में आ गए। अथर्व अंकोलेकर ने फाइनल मैच में बांग्लादेश के खिलाफ 28 रन देकर 5 सफलताएं हासिल की।

भारतीय अंडर-19 स्टार अथर्व अंकोलेकर की मां खुद को नहीं बल्कि इन्हें देती है उनके सफलता का पूरा श्रेय 1

अथर्व के इस जबरदस्त प्रदर्शन के बूते ही भारतीय अंडर-19 टीम ने 106 रन का छोटा सा स्कोर बनाने के बाद भी बांग्लादेश अंडर-19 टीम को केवल 101 रन पर आउट कर 5 रनों की रोमांचक जीत हासिल की।

अथर्व अंकोलेकर  की मां वैदेही ने बेटे की सफलता पर साझा की अपनी राय

अपने बेटे की सफलता के बाद अथर्व अंकोलेकर की मां वैदेही अंकोलेकर बहुत ही खुश हैं। पेशे से सरकारी बस में कंडेक्टर का काम करने वाली वैदेही ने बेटे की सफलता के बाद क्रिकेट कन्ट्री के साथ अपनी बात साझा कि। वैदेही ने कहा कि

भारतीय अंडर-19 स्टार अथर्व अंकोलेकर की मां खुद को नहीं बल्कि इन्हें देती है उनके सफलता का पूरा श्रेय 2

“मुझे ऐसा नहीं लगा था कि हम जीत सकते हैं। लेकिन जैसा कि उन्होंने गेंदबाजी करना शुरू किया और भारत ने विकेट लेना शुरू किया कुछ उम्मीद थी।”

अथर्व की मेहनत और स्कूल-कॉलेज के समर्थन से हुआ ये हासिल

वैदेही ने आगे कहा कि” मैं खेल के बारे में ज्यादा नहीं जानता हूं। सच कहूं तो मैंने कुछ खास नहीं किया। मैंने कभी उस पर दबाव नहीं डाला। उसे बस कुछ भी करने की स्वतन्त्रता दी। लेकिन उसने अपने पिता को सपने को पूरा करने का फैसला किया था।”

अथर्व की मां वैदेही ने बेटे की इस सफलता के बाद उससे स्कूल और कॉलेज के योगदान को नहीं भूली और समर्थन करने के लिए स्कूल, कॉलेज की जमकर तारीफ की। वैदेही ने कहा कि

भारतीय अंडर-19 स्टार अथर्व अंकोलेकर की मां खुद को नहीं बल्कि इन्हें देती है उनके सफलता का पूरा श्रेय 3

“उसके स्कूल(रिजवी कॉलेज) इसके लिए बहुत कुछ किया। वे हमेशा उसके पीछे खड़े रहे और समर्थन किया। मैंने उसके शिक्षकों से बात की और उन्होंने बताया कि ये तो अथर्व के लिए एक शुरुआत है। वो दूर तक जाएगा। उसे आईपीएल और भारत के लिए खेलने का मौका मिलेगा। उसके कोच सुरेन आयरे, प्रशांत शेट्टी सर, जो इस समय श्रीलंका में हैं उन्होंने भी मैसेज किया। उन्होंने हमारी बहुत मदद की। वो अथर्व को दोपहर में अपने घर ले जाते थे और सुनिश्चित करते थे कि उसका दोपहर का भोजन वहीं हो। और फिर वो उसे मैदान में कोचिंग के लिए ले जाते।”

आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे जल्दी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुंचा सके।