बलविंदर सिंह संधू ने किया विराट कोहली का बचाव, कहा खिलाड़ियों में नहीं बल्कि अनिल कुंबले में ही रहा होगा कमी 1
Photo Credit : Google

अनिल कुंबले ने भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच का पद वेस्टइंडीज दौरे के दो दिन पहले ही छोड़ दिया है, भारत को चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल मैच हारने के चार दिन बाद ही वेस्टइंडीज से पांच वनडे और 1 टी 20 मैच की श्रृंखला खेलनी है, मगर इस सीरीज से दो दिन पहले ही अनिल कुंबले ने भारतीय टीम के लिए कोच का संकट पैदा कर दिया है.पाकिस्तान से उत्तर प्रदेश आये विराट कोहली के हमशक्ल ने कोहली नहीं बल्कि इस भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना आइडल

अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद से ही पूर्व दिग्गज क्रिकेटर तरह-तरह की टिप्पणीया कर रहे है और ऐसे में आज भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज अनिल कुंबले के इस्तीफे को लेकर टिप्पणी कर रहे है, और अब ऐसी ही एक टिप्पणी भारतीय पूर्व तेज गेंदबाज बलविंदर सिंह संधू ने की है. 

विपक्ष में बोली बात 

बलविंदर सिंह संधू ने किया विराट कोहली का बचाव, कहा खिलाड़ियों में नहीं बल्कि अनिल कुंबले में ही रहा होगा कमी 2
photo credit with google

भारतीय कोच अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद से ही देखा जा रहा था कि सभी पूर्व दिग्गज अनिल कुंबले के समर्थन में बोल रहे थे फिर चाहे वह मदन लाल हो या फिर सुनील गावस्कर मगर भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज बलविंदर सिंह संधू अनिल कुंबले के पक्ष में ना बोल के   उनके विपक्ष में बोले है.

कुंबले में ही है कमी 

बलविंदर सिंह संधू ने किया विराट कोहली का बचाव, कहा खिलाड़ियों में नहीं बल्कि अनिल कुंबले में ही रहा होगा कमी 3
photo credit with getty images

भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज बलविंदर सिंह संधू ने अपने एक इंटरव्यू में कहा “मुझे लगता है अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट के स्तर पर कोच से ज्यादा एक मेन मैनेजर की भूमिका चाहिए होती है, जो कुंबले निभाने में नाकाम रहे और शायद इसी के चलते उन्होंने इस्तीफा दे दिया,”

बलविंदर सिंह संधू ने किया विराट कोहली का बचाव, कहा खिलाड़ियों में नहीं बल्कि अनिल कुंबले में ही रहा होगा कमी 4

सभी खिलाड़ी है कुशल 

बलविंदर सिंह संधू ने किया विराट कोहली का बचाव, कहा खिलाड़ियों में नहीं बल्कि अनिल कुंबले में ही रहा होगा कमी 5
photo credit with getty images

बलविंदर सिंह संधू ने आगे अपने इंटरव्यू में कहा “अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट के स्तर पर कोई भी खिलाड़ी राज्य क्रिकेट खेल के आता है, जहाँ उसे अच्छे से कोचिंग मिली होती है हमारे भी सारे खिलाड़ी अपने-अपने विभाग में कुशल है, उन्हें सिर्फ कुंबले से मार्गदर्शन की जरूरत थी, जो कुंबले उन्हें देने में असमर्थ रहे.”महेंद्र सिंह धोनी को ग्रेड में नहीं रखना चाहते थे विराट कोहली, कुंबले ने किया धोनी का समर्थन तो भड़के विराट

किसी भी कोच का कुंबले के समान होता रिकॉर्ड 

भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज बलविंदर सिंह संधू ने आगे अपनी बढ़ाते हुए कहा “मुझे लगता है जो रिकॉर्ड कुंबले का है वो रिकॉर्ड किसी भी कोच का इस अंतराल में रहता, क्योंकि हमारे पास विश्व की सर्वश्रेष्ठ टीम है, और इस अंतराल में हमने अपने अधिकांस मैच भारत में ही खेले.” 

रहा था कुंबले का ये शानदार रिकॉर्ड 

कुंबले के कोच रहते हुए भारतीय टीम ने 17 में  12 टेस्ट में जीत दर्ज की इस दौरान उनका टेस्ट में जीत का प्रतिशत 70 से भी अधिक रहा छोटे प्रारूपों में भी कुंबले सफल रहे, उनका छोटे प्रारूपों में जीत का प्रतिशत 61.54 था. 

vineetarya

cricket is my first and last love, I know cricket only cricket, I love watching cricket because cricket is my passion and my passion is my work my favourite player Mike Hussey and Kl Rahul