राहुल दलाल

विश्व भर में कोरोना वायरस से लोगो को बहुत परेशानी हो रही है. अब तक इसके कारण 3.03 लाख लोग अपनी जान गँवा चुके हैं. जबकि 45.40 लाख लोग इससे प्रभावित हो चुके हैं. क्रिकेट इससे बहुत प्रभावित है. बांग्लादेश के घरेलू क्रिकेटर साजिब दास भी अब कोरोना वायरस से प्रभावित हो गये. वो बांग्लादेश क्रिकेट से जुड़े दूसरे व्यक्ति बन गये.

बांग्लादेश के साजिब दास कोरोना वायरस से हुए प्रभावित

बांग्लादेश

अब तक बांग्लादेश में कोरोना वायरस से 20.06 हजार केस सामने आये हैं. जबकि इस बीच 3.8 हजार लोग ठीक हो चुके हैं. जबकि 298 लोगो ने अपनी जान गँवा दी है. जिसके कारण वहां पर अभी लॉकडाउन चल रहा है. सरकार इसको लेकर गंभीर नजर आ रही है. इस बीच बांग्लादेश के घरेलू क्रिकेटर साजिब दास भी कोरोना वायरस से प्रभावित हो गये हैं.

आपको बता दें की इससे पहले बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड खेल सुधार कोच अशिकुर रहमान भी कोरोना वायरस से प्रभावित हो चुके हैं. हालाँकि इसके कारण अब बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड की मुश्किले बढती जा रही है. उन्हें अपने खिलाड़ियों को इस वायरस से बचने के कुछ और सलाह देनी होगी. साजिब दास ने ढाका प्रीमियर लीग में वारी क्लब की कप्तानी भी की थी. घरेलू स्तर पर भी वो अपनी टीम की कप्तानी कर चुके हैं.

साजिब दास के परिवार का भी हुआ है टेस्ट

बुरी खबर: एक और क्रिकेटर निकला कोरोना वायरस पॉजिटिव, बोर्ड ने दिया आश्ववासन 1

इस मामले में एक बात और सामने आई की साजिब की माँ भी कोरोना पॉजिटिव हो गयी है. जिसके कारण उन्हें आइसोलेट कर दिया गया है. अपने परिवार को लेकर बोलते हुए साजिब दास ने क्रिकफेंजी के पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि

” मैं फ़िलहाल ठीक हूँ लेकिन अपने परिवार को लेकर थोड़ा परेशान भी हूँ. मैं अपने गांव में माँ के साथ एक कमरे में आइसोलेट हूँ. मेरी पत्नी और बच्चों की रिपोर्ट नेगेटिव है.”

बोर्ड अब अपने इस खिलाड़ी के लिए खड़ा नजर आ रहा है. जिसके कारण उन्हें किस तरह से अन्य सुविधा दी जाए. इसके प्रयास भी चल रहे हैं. जिसके कारण जल्द ही साजिब दास का अच्छे से देखरेख किया जा रहा है.

अब बांग्लादेश बोर्ड ने साजिब दास को लेकर दिया बयान

बांग्लादेश

इसी बीच बांग्लादेश क्रिकेट वेलफेयर एसोसिएशन के सचिव देवव्रत पॉल ने मीडिया से बात करते हुए क्रिकेटर साजिब दास के बारें में कहा कि

” हम सीओएबी सचिव अमीर बाबू के माध्यम से साजिब दास की मदद करने की कोशिश कर रहे हैं जो मदारीपुर में रह रहे हैं. साजिब आइसोलेशन के बारे में बहुत चिंतित हैं और हम सोच रहे हैं कि इस बारे में क्या करना है.”