गुजरात लॉयंस को मिला रफ्तार का ये सौदागर, रफ़्तार इतनी कि चकमा खा जाए अच्छे से अच्छा दिग्गज 1

आईपीएल यानि इंडियन प्रीमियर लीग एक ऐसा टूर्नामेंट रहा है, जिसमे कई क्रिकेट प्रतिभाओं की खोज हुई है। आईपीएल में अपने आप को साबित कर कई खिलाड़ी ऊपर उठे है, जो आज इंटरनेशनल क्रिकेट में अपने-अपने देश के लिए नाम कमा रहे है। मतलब साफ है, कि आईपीएल ने कई प्रतिभाशाली क्रिकेटरों का करियर संवारने का काम किया है। आईपीएल 10 के वो पांच खिलाड़ी जो आए रातों रात सुर्खियों में 

आईपीएल शुरू होने में अब कुछ ही दिन बचे हुए है। ऐसे में इंडियन प्रमीयर लीग की सभी टीमों ने जोर-शोर से तैयारियां शुरू कर दी है। इस बार की आईपीएल निलामी में कई अनजान चेहरों को आईपीएल की टीमों ने अपनी-अपनी टीमों में शामिल किया है। ये अनजान खिलाड़ी आईपीएल के माध्यम से अपने आप को साबित कर आगे बढ़ने का सपना पाले है। इन युवा खिलाड़ियों को आईपीएल के रूप में एक प्लेटफॉर्म तो मिल गया है। अब प्लेटफॉर्म पर सरपट दौड़ने की बारी तो इन खिलाड़ियों की है।

गुजरात लॉयंस को मिला रफ्तार का ये सौदागर, रफ़्तार इतनी कि चकमा खा जाए अच्छे से अच्छा दिग्गज 2

इन्ही खिलाड़ियों में से एक है, केरल के 140 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करने वाले बासिल थाम्पी. नाम तो बिल्कुल भी जाना पहचाना नहीं लग रहा था, लेकिन आईपीएल 10 की निलामी के बाद केरल के इस तेज गेंदबाज को अब कई लोग जानने लगे है। बासिल थाम्पी को आईपीएल 10 की बोली में गुजरात लॉयंस ने 85 लाख रूपये देकर अपनी टीम में शामिल किया है। केसीए ने कड़ी चेतावनी के साथ संजू सेमसन को दी माफी

युवा तेज गेंदबाज बासिल थाम्पी इन दिनों अपनी आईपीएल टीम गुजरात लॉयंस के साथ तैयारी में लगे हुए है जहां वो जमकर पसीना बहा रहे है। बासिल थाम्पी आईपीएल का हिस्सा बनकर बहुत ही खुश नजर आ रहे है। उन्होनें आईपीएल को उनके करियर के लिए सुनहरा मौका बताया है।

बासिल थाम्पी ने कहा कि, “इस आईपीएल में खेलना मुझ जैसे घरेलु क्रिकेटर के लिए बहुत बड़ा मौका है। इस प्लेटफॉर्म से हमें इंटरनेशनल क्रिकेटरो के साथ खेलने का मौका मिलता है। इस टूर्नामेंट में गेंदबाजी करना मेरे लिए एक बहुत बड़ी चुनौती है, लेकिन मैं लकी हूं कि मुझे कप्तान सुरेश रेना, प्रवीण कुमार और मुनाफ पटेल जैसे खिलाड़ी टिप्स दे रहें है।”आईपीएल-10 की निलामी हुई खत्म, कोई बना करोड़पति तो किसी को करना पड़ा लाखो में संतोष