इतिहास के पन्नों से : जब सचिन ने ब्रावो और पोलार्ड से कहा, कि बल्ले मुझसे बात करते है | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

इतिहास के पन्नों से : जब सचिन ने ब्रावो और पोलार्ड से कहा, कि बल्ले मुझसे बात करते है 

इतिहास के पन्नों से : जब सचिन ने ब्रावो और पोलार्ड से कहा, कि बल्ले मुझसे बात करते है

भारत के दिग्गज बल्लेबाज़ और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के कुछ रिकॉर्ड क्रिकेट के इतिहास में ऐसे है, जिन्हें तोड़ पाना बहुत मुश्किल है. सचिन तेंदुलकर ने भारत की तरफ़ से 24 साल तक क्रिकेट खेला है, जिसकी वजह से वह क्रिकेट के भगवान बन गए है. सचिन तेंदुलकर को आई उस नेवले की याद, जिसने 1993 का हीरो कप जीताया था

उनके इसी 24 साल के करियर के दौरान वेस्ट इंडीज के खिलाफ़ एक मैच में ब्रावो और पोलार्ड ने सचिन तेंदुलकर से पूछा, कि वह अपने बल्ले पर अंगुली मारकर क्या चैक करते है. तब उनके इस सवाल का जवाब देते हुए सचिन तेंदुलकर ने कहा, कि इस तरह बल्ले मुझसे बात करते है और मुझे बताते है, कि वह अच्छे बल्ले है या नहीं.

ये सुनने के बाद ब्रावो और पोलार्ड ने सचिन तेंदुलकर को चैक करने की कोशिश की और उनके सामने 4 बल्ले रखे और कहा बताओ, ये बल्ले कैसे है. सचिन ने अपने अंदाज़ में उन बल्लों पर अंगुली मारकर चैक किया और बताया, कि ये बल्ले सही है लेकिन सिर्फ अभ्यास के लिए मैच में इनसे खेलना अच्छा नहीं होगा. सचिन तेंदुलकर ने दिया गणतंत्र दिवस के मौके पर एक खास संदेश

उसके बाद ब्रावो और पोलार्ड ने उन्हें 1 बल्ला दिया और कहा, कि इससे हम अभ्यास करते है, ये कैसा बल्ला है. उसको चैक करने के बाद सचिन तेंदुलकर ने कहा, जिस बल्ले से आप अभ्यास करते हो, वह बहुत अच्छा बल्ला है इससे आप मैच के दौरान खेल सकते हो.

सचिन तेंदुलकर की ये बात सुनते ही ब्रावो और पोलार्ड दोनों तेज़ी से हँसने लगे और फिर बाद में उन्होंने बताया, कि वास्तव में जो बल्ला बाद में दिखाया वही हमारा खेलने वाला बल्ला है, हम बस आपको चैक कर रहे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों को सचिन तेंदुलकर से सीखने की सलाह दी

Related posts