पाकिस्तान में एशिया कप 2020 खेलने को लेकर बीसीसीआई ने सुनाया अपना फैसला

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

पाकिस्तान में एशिया कप 2020 खेलने को लेकर बीसीसीआई ने सुनाया अपना फैसला 

पाकिस्तान में एशिया कप 2020 खेलने को लेकर बीसीसीआई ने सुनाया अपना फैसला

साल 2020 का एशिया कप पाकिस्तान की धरती पर खेला जाना है, लेकिन बीसीसीआई पाकिस्तान की धरती पर अपनी टीम भेजने को राजी नहीं है. इसी बीच पाकिस्तान ने भारत को धमकी भी दी है, कि अगर वह एशिया कप में अपनी टीम नहीं भेजगा, तो वह भी टी-20 विश्व कप खेलने अपनी टीम को भारत नहीं भेजेंगे. दरअसल, 2021 का टी-20 वर्ल्ड कप भारत में होना है और इसी विश्व कप से हटने की धमकी पाकिस्तान दे रहा है.

पाकिस्तान में भारत नहीं खेलेगा

पाकिस्तान में एशिया कप 2020 खेलने को लेकर बीसीसीआई ने सुनाया अपना फैसला 1

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने मीडिया से बात करते हुए कहा,सवाल यह नहीं है कि पीसीबी मेजबानी कर रहा है. यह टूर्नमेंट के स्थल की बात है. अभी इस समय जैसी चीजें हैं, यह साफ है कि हमें तटस्थ स्थल चाहिए होंगे. ऐसी कोई संभावना नहीं है कि भारत मल्टी नेशन टूर्नमेंट में हिस्सा लेने भी पाकिस्तान जाए.

अगर एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) इस बात से खुश है कि एशिया कप बिना भारत के हो तो यह अलग बात है. लेकिन अगर भारत को एशिया कप का हिस्सा होना है तो यह जरूरी है कि टूर्नमेंट पाकिस्तान में न हो. पीसीबी एशिया कप की मेजबानी करे, लेकिन पाकिस्तान में भारत नहीं खेलेगा.”

पीसीबी के पास तटस्थ स्थल का विकल्प

पाकिस्तान में एशिया कप 2020 खेलने को लेकर बीसीसीआई ने सुनाया अपना फैसला 2

2018 में एशिया कप भारत में होना था, लेकिन पाकिस्तानी खिलाड़ियों को लेकर वीजा की समस्या हुई थी और इसी कारण एशिया कप संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराया गया था और इसकी मेजबानी बीसीसीआई ने की थी, अधिकारी ने कहा कि पीसीबी भी यही कर सकती है. “तटस्थ स्थल हमेशा से विकल्प रहते हैं. बीसीसीआई ने 2018 में यह किया था. अब पीसीबी के पास भी यही विकल्प है.”

पाकिस्तान में 2009 में श्रीलंका क्रिकेट टीम की बस पर आतंकवादियों में हमला कर दिया था तब से पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं हुआ था, लेकिन हाल ही में श्रीलंका ने पाकिस्तान का दौरा किया और अभी इस समय बांग्लादेश भी दौरे पर है. हालांकि भारत और पाकिस्तान का मुद्दा इससे भी ज्यादा है. दोनों देशों के बीच राजनीतिक संबंधों के कारण यह स्थिति है कि भारत किसी भी सूरत में मौजूद हाल में पाकिस्तान का दौर नहीं कर सकता.

Related posts