पूर्व बीसीसीआई सेक्रेटरी ने चयनकर्ताओं पर साधा निशाना, गलत खिलाड़ियों को मौका देने का लगाया आरोप

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

विश्व कप हार के बाद पूर्व बीसीसीआई सेक्रेटरी ने इन 2 खिलाड़ियों को मौका न देने पर चयनकर्ताओं को लगाया फटकार 

विश्व कप हार के बाद पूर्व बीसीसीआई सेक्रेटरी ने इन 2 खिलाड़ियों को मौका न देने पर चयनकर्ताओं को लगाया फटकार

भारतीय टीम खराब बल्लेबाजी की वजह से विश्व कप से बाहर हो चुकी है। टीम के पास नंबर के नंबर एक और नंबर दो वनडे बल्लेबाज हैं लेकिन दोनों के एक साथ फ्लॉप होने के साथ ही टूर्नामेंट में टीम का सफर भी समाप्त हो गया। टीम के लिए दिनेश कार्तिक, ऋषभ पन्त और केदार जाधव जैसी खिलाड़ियों ने कुछ खास योगदान नहीं दिया।

आईपीएल प्रदर्शन पर न चुने टीम

अंबाती रायडू के आईपीएल में खराब प्रदर्शन के बाद उन्हें विश्व कप टीम में जगह नहीं मिली। टीम के प्रदर्शन और खिलाड़ियों के चयन पर बीसीसीआई के पूर्व सेक्रेटरी संजय जगदले में इन्डियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा

“चयन समिति विजय शंकर, अंबाती रायडू, दिनेश कार्तिक के साथ प्रयोग करती रही। कार्तिक 2003 से खेल रहा है जब मैं चयनकर्ता था। रायडू भी उसी समय से है। आप आईपीएल प्रदर्शन के आधार पर टीमों को नहीं चुन सकते। आपको ऐसे खिलाड़ियों की जरूरत है, जिन्होंने उपमहाद्वीप के बाहर अच्छा प्रदर्शन किया हो।”

रायडू- कार्तिक के लिए दुख नहीं

विश्व कप में जगह नहीं मिलने के बाद चोटिल खिलाड़ियों की जगह भी मौका नहीं मिलने की वजह से अंबाती रायडू ने संन्यास की घोषणा कर दी। वहीं दिनेश कार्तिक ने भी कुछ खास नहीं किया। इसके बावजूद संजय जगदले को इसके लिए दुःख नहीं है। उन्होंने कहा

“जब पंत को शुरुआत में मौका नहीं मिला तो मैं वास्तव में हैरान था। मुझे रायडू के लिए खेद नहीं है। रायडू, कार्तिक पास पर्याप्त मौके थे।”

गलत खिलाड़ियों को मौका देते रहे

भारत के लिए अच्छे प्रदर्शन के बावजूद मनीष पांडे और श्रेयस अय्यर को साबित करने का ज्यादा मौका नहीं मिला। उनके अनुसार चयनकर्ताओं ने गलत खिलाड़ियों को लगातार मौके दिए। बीसीसीआई के पूर्व सेक्रेटरी ने कहा

“मुझे मनीष पांडे जैसे खिलाड़ी के लिए दुःख है। श्रेयस अय्यर भी दुर्भाग्यशाली थे। मनीष पांडे ने ऑस्ट्रेलिया में शतक लगाया। उसके बाद उन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले। मुझे लगता है कि तैयारी बहुत बेहतर हो सकता था। वे गलत खिलाड़ियों मौका दे रहे थे।”

Related posts