बीसीसीआई से नाईकी का करार होने वाला है खत्म, टीम किट के लिए नए स्पॉन्सर की तलाश 1

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड  ने सोमवार (4 अगस्त) को टेंडर प्रक्रिया के जरिए टीम के किट स्पांसर और आधिकारिक बिक्री साझेदारी के अधिकारों के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं. दरअसल ख़बरों के मुताबिक अब बीसीसीआई भारतीय क्रिकेट टीम की जर्सी की स्पांसर नाईकी के विकल्प को तलाशने के लिए बोली आमंत्रित कर रही है.

नाईकी का करार जल्द होने वाला है खत्म

बीसीसीआई से नाईकी का करार होने वाला है खत्म, टीम किट के लिए नए स्पॉन्सर की तलाश 2

टीम के मौजूदा जर्सी के राईट्स इस समय नाइकी कम्पनी के पास थे, अब नाईकी का कॉन्ट्रैक्ट अगले महीने समाप्त होने वाला है, ऐसे में उसकी जगह लेने के लिए बोर्ड ने नई टेंडर प्रक्रिया की शुरुआत की है.

स्पोर्ट्स कपड़ों की इस दिग्गज कंपनी ने बीसीसीआई के साथ 30 करोड़ की रॉयल्टी के साथ 370 करोड़ रुपये में चार साल का करार किया था. आमंत्रित निविदा के तहत जीतने वाले कंपनी के पास किट प्रायोजक और आधिकारिक बिक्री भागीदार तथा इससे संबंधित विभिन्न अधिकार प्राप्त होंगे.

यह है बीसीसीआई का ट्वीट

बीसीसीआई से नाईकी का करार होने वाला है खत्म, टीम किट के लिए नए स्पॉन्सर की तलाश 3

आईटीटी 26 अगस्त तक ही खरीद के लिए रहेगा उपलब्ध

आईपीएल 2020

बीसीसीआई ने इसके लिए जो प्रेस विज्ञप्ति जारी की है, उसमें आईटीटी की शर्तों के बारे में पूरी जानकारी दी है. प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार,

” योग्यता आवश्यकताओं और दायित्वों सहित बोलियों के प्रस्तुतिकरण और मूल्यांकन को नियंत्रित करने वाले नियम और शर्तें आईटीटी में निहित हैं, एक लाख रूपये की फीस के साथ टेंडर के नियम और शर्तो के साथ बोलियां पेश करना और उनका मूल्यांकन करने जैसी सभी जानकारी सोमवार को दी जाएगी. आईटीटी 26 अगस्त तक खरीदी जा सकेगी.”

आपको बता दें कि सूत्रों के हवाले से पता चला है कि आईटीटी 26 अगस्त तक ही खरीद के लिए उपलब्ध रहेगा.

आईटीटी खरीदने से खरीददार बोली लगाने का हकदार नहीं हो सकता

 

प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक बीसीसीआई ने बोली प्रक्रिक्य को संशोधित तथा रद्द करने के नियम के बारे में पूरी जानकारी दी. बीसीसीआई ने अपनी एक प्रेसविज्ञप्ति में कहा,

” बीसीसीआई बिना किसी कारण के किसी भी स्तर पर बोली प्रक्रिया को रद्द करने या संशोधित करने का अधिकार रखता है. सिर्फ आईटीटी खरीदने से खरीददार बोली लगाने का हकदार नहीं हो सकता, बल्कि बोली लगाने के लिए ग्राहक को किसी व्यक्ति या कंपनी के नाम पर आईटीटी लेनी होगी जिसे बोली लगानी है”

Ashutosh Tripathi

Sport Journalist