अर्जुन के पिता अगर सचिन ना होते तो उन्हें ना मिल पाती ये तीन चीजे 1

क्रिकेट के भगवान कहे जाने सचिन तेंदुलकर के पुत्र अर्जुन तेंदुलकर जिनका अभी हाल में ही अंडर 19 टीम में चयन किया गया है. इनका चयन श्रीलंका के दौरे के लिए किया गया है. चार दिवसीय मैच की टीम में शामिल अर्जुन ने अभी हाल में ही घरेलू क्रिकेट में मात्र 5 मैचों में 18 विकेट लेकर टीम में चयन के लिए दावा ठोक दिया था.

अर्जुन के पिता अगर सचिन ना होते तो उन्हें ना मिल पाती ये तीन चीजे 2

 

आस्ट्रेलिया के मिचेल स्टार्क और इंग्लैंड के तेज गेंदबाज बेन स्टोक्स का अनुसरण करते हुए अपने क्रिकेट करियर को आगे बढ़ा रहे है.

पिछले साल हुए इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच हुए टेस्ट मैच में इन्होने नेट पर अपनी गेंदबाजी से बल्लेबाजो को अभ्यास कराया था.

इंग्लैंड के बल्लेबाज जोनी बैरेस्टो को नेट पर अभ्यास कराते वक़्त एक यार्कर पर इस बल्लेबाज को चोट लग गयी,  जिसके बाद बैरिस्टो को चिकित्सा सेवा लेनी पड़ी. इन्होने मौजूदा भारतीय कप्तान कोहली को नेट पर अभ्यास कराया है.

आयु प्रबन्धन

 अर्जुन के पिता अगर सचिन ना होते तो उन्हें ना मिल पाती ये तीन चीजे 3

 

जिस उम्र में एक नौजवान अपने जीवन को शुरुआत करने के सपने देखता है, तब तक सचिन उस मुकाम पर पहुच गए थे जहाँ पर शायद ही कोई खिलाड़ी पहुच पाए. मात्र 16 साल की उम्र में सचिन ने टेस्ट मैच के लिए पदार्पण कर दिया था.

अर्जुन के पिता अगर सचिन ना होते तो उन्हें ना मिल पाती ये तीन चीजे 4

वो इतनी उम्र में वसीम अकरम, इमरान खान के गेंदबाजी का सामना कर रहे थे.  जबकि उनके पुत्र अर्जुन ने अंडर 14, अंडर 16, सभी प्रारूप खेलते हुए आगे आनी वाली चुनौतियों के लिए आगे बढ़ रहे है.

प्रबंधन 

वर्तमान समय का क्रिकेट प्रारूप सभी युवा क्रिकेटरों को सभी सुविधाए दिला रहा है. वो चाहे अच्छी कोचिंग, प्रशिक्षण अच्छी सुविधाए उपलब्ध करायी जा रही है. जिससे युवा क्रिकेटरों को कोई दिक्कत का सामना ना करना पड़े. जबकि सचिन के समय ऐसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी.

अर्जुन के पिता अगर सचिन ना होते तो उन्हें ना मिल पाती ये तीन चीजे 5

धूलभरे मैदान में जहाँ पर अपनी प्रतिभा का आंकलन करना. सचिन ने इस खेल के प्रति समर्पण की भावना से खेल को आगे बढ़ाया और आज इस मुकाम पर है, जहाँ पर प्रत्येक क्रिकेटर का पहुचने का सपना होता है. आज के इस दौर में आप थोड़े से अनुशासन से अपने मुकाम को हासिल कर सकते है.

अच्छे दिमाग की परिकल्पना 

अर्जुन अपने आप को भाग्यशाली समझता है क्यूंकि उसके पिता मास्टर ब्लास्टर है,  अर्जुन का नाम विराट कोहली और वसीम अकरम जैसे दिग्गज लोग करते है.

Image result for अर्जुन तेंदुलकर

यही कारण है की वो लंदन में नेट अभ्यास करता है, जबकि सचिन के समय ऐसा कुछ उपलब्ध नहीं था. सचिन अपने नाम के सहारे आगे बढ़ रहे थे.

आज अर्जुन अपने पिता के दम पर बहुत कुछ करने और सीखने का दमखम रखते है.

Leave a comment