टर्बनेटर हरभजन सिंह क्रिकेटर से गायक बनने की राह पर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम 

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल ऑफ स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह पिछले कुछ समय से भारतीय टीम से बाहर हैं। हरभजन सिंह लगातार एक बार फिर से वापसी की कोशिश तो कर रहे हैं लेकिन अब तो लगने लगा है जैसे उन्होंने भारतीय टीम में वापसी की उम्मीदों को छोड़ दिया है। और नई पारी को मजबूती देने में लग गए हैं।

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम 1

हरभजन सिंह ने अपना तीसरा एलबम किया लॉंच

जी हां हरभजन सिंह अब क्रिकेट के मैदान से दूर अपनी आवाज का जादू बिखेरने की कोशिश कर रहे हैं। अपनी आवाज यानि गायकी में हरभजन सिंह अब अपने हाथ अजमा रहे हैं। वैसे तो गायकी में 2013 में ‘मेरी मां‘ गीत से ही अपना डेब्यू कर चुके हरभजन सिंह अपना एक और एलबम लॉंच किया है।

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम 2

भज्जी का नया एलबम एक सुनेहा-2 हुआ रिलीज

हरभजन सिंह ने अपने गायकी के करियर का तीसरा एलबम एक सुनेहा-2 के नाम से जारी कर दिया है। भज्जी का ये एलबम 20 मार्च यानि मंगलवार को रिलीज हुआ। साथ ही ये गाना मंगलवार से ही टीवी चैनलों पर भी शुरू कर दिया गया है। हरभजन सिंह ने इस एलबम में पंजाब की समस्याओं का बखान किया है।

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम 3

भज्जी ने अपने नए एलबम में पंजाबी गायकी पर किया कटाक्ष

भज्जी ने ‘एक सुनेहा-2’ एलबम में अपने गृह राज्य पंजाब की समस्याओं और पंजाब की गायकी पर कटाक्ष करते हुए एक सुनेहा नाम से ये गीत गाया। हरभजन सिंह के नए एलबम एक सुनेहा-2 में भारत के सबसे बड़े क्रांतिकारियों में से एक रहे शहीद भगत सिंह को समर्पित किया गया है। भज्जी ने इस गाने का टीजर अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट किया है।

भज्जी ने गाने के बोल को लेकर रखी अपनी प्रतिक्रिया

हरभजन सिंह के नए एलबम ‘एक सुहेना-2‘ में उन्होंने पंजाब की गायकी पर कटाक्ष करते हुए गाना गाया जिसके बोल

मेरे प्यारे लेखक वीरो, मानयोग गायककारो।

कुछ गिले ने तुहाडे उत्ते, अज्ज देओ फनकारो।

मां सरस्वती ने कलम ते सुर नाल भाग जे तुहानूं लाया ए।

ते सभ्याचार दी सांझ दा जिम्मा वी तुहाडे उत्ते पाया ए।

एक सुनेहा की इन लाइनों से मैंने लचर गायकी की जिम्मेदार गायकों और लेखकों को अपनी जिम्मेदारी का अहसास दिलाने की कोशिश की थी। अब मैं दोबारा जनता की कचहरी में पेश हूं अपने लीजेंड को सलाम करने के लिए।

टर्बनेटर हरभजन सिंह ने क्रिकेट छोड़ की नई पारी की शुरूआत, लॉन्च किया अपना तीसरा एल्बम 4

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आए तो प्लीज इसे लाइक और शेयर करें।

Related posts

Leave a Reply