हरभजन सिंह ने बताया विराट कोहली के गैरमौजूदगी में किसे करना चाहिए भारतीय टीम की कप्तानी 1

ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर भारतीय क्रिकेट टीम से फैंस को काफी उम्मीदें हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीमित ओवर की सीरीज के खत्म होने के बाद ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जानी है। 17 दिसंबर से शुरू होने जा रही इस टेस्ट सीरीज के पहले टेस्ट मैच के बाद भारतीय टीम के नियमित कप्तान विराट कोहली भारत लौट आएंगे।

हरभजन ने बताया कोहली के स्थान पर रोहित या रहाणे में कौन करें कप्तानी?

विराट कोहली के पहले टेस्ट मैच के बाद भारत लौट आने पर भारतीय टीम की कप्तानी कौन करेगा? ये एक बड़ा सवाल बना हुआ है। इन दिनों तो सिर्फ और सिर्फ इस बात की चर्चा है कि विराट कोहली के जाने के बाद भारतीय टीम की कप्तानी अजिंक्य रहाणे ही करेंगे या रोहित शर्मा को कप्तानी दी जाएगी।

हरभजन सिंह ने बताया विराट कोहली के गैरमौजूदगी में किसे करना चाहिए भारतीय टीम की कप्तानी 2

अजिंक्य रहाणे पिछले कई साल से भारतीय टीम के टेस्ट उपकप्तान हैं। लेकिन कई लोगों का मानना है कि रोहित शर्मा की आईपीएल कप्तानी को देखते हुए उन्हें कप्तानी देनी चाहिए। लेकिन इसी बीच हरभजन सिंह ने बताया कि विराट कोहली के नहीं होने पर भारत की टेस्ट कप्तानी कौन करें? इसमें तो भज्जी ने रहाणे का नाम लिया।

अजिंक्य रहाणे में कोहली जैसी कप्तानी करने की क्षमता

हरभजन सिंह ने स्पोर्ट्स तक पर बात करते हुए कहा कि

“विराट कोहली के ऑस्ट्रेलिया से चले जाने के बाद रहाणे को ही टीम की कप्तानी सौंपी जानी चाहिए। रहाणे के अंदर काबिलियत है कि वो कोहली की तरह ही भारतीय टीम अगुवाई कर सकते है।”

अजिंक्य रहाणे

भज्जी ने आगे कहा कि

“रहाणे के लिए ये एक बड़ी परीक्षा होगी क्योंकि उन्होंने आज तक कभी भी एक पूरी सीरीज में कप्तानी नहीं कराई है। साथ में वो शांत और सहज और जज्बातों को ज्यादा जाहिर नहीं करते। वो कोहली से बहुत अलग है।”

अजिंक्य रहाणे नहीं कोई अपनी शैली में कोई बदलाव

अजिंक्य रहाणे पर हरभजन सिंह ने अपनी बात जारी रखते हुए आगे कहा कि

“ये उनके लिए एक नया अनुभव होगा और वो उन्हें ढ़ेर सारी शुभकामनाएं देते है कि वो टीम को सही से संचालित करे और साथ में ढेरों रन भी बनाएं  ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रहाणे को पर्सनालिटी और अपनी बल्लेबाजी शैली बदलने की कोई जरूरत नहीं है।”

अजिंक्य रहाणे

“विराट जैसी शख्सियत को देखते हुए रहाणे सोच सकते हैं कि ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए उन्हें इसमें से कुछ को अपनाना होगा। लेकिन मुझे नहीं लगता कि ये आवश्यक है। सभी रहाणे को खुद करने की जरूरत है और सुनिश्चित करें कि वो अपनी टीम से कैसे बेस्ट को बाहर लेकर आएं। ”