आईपीएल 2020- महेंद्र सिंह धोनी पर भड़के ब्रायन लारा, कहा माही के इस गलती की वजह से प्लेऑफ से बाहर हुई चेन्नई 1

आईपीएल का 13वां सीजन संयुक्त अरब अमीरात में खेला जा रहा है। इस सीजन में प्रबल दावेदार के रूप में उतरी चेन्नई सुपर किंग्स की टीम का काफी खराब प्रदर्शन रहा। महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में आईपीएल में 3 बार चैंपियन बनने वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम लगातार इस सीजन में अपने साधारण प्रदर्शन के कारण प्लेऑफ की रेस से बाहर हो चुकी है।

चेन्नई सुपर किंग्स ने अपने फैंस को किया है निराश

चेन्नई सुपर किंग्स के लिए आईपीएल के इतिहास में ये पहली बार हुआ है जब उन्हें प्लेऑफ के बिना बाहर होना पड़ा है। इससे पहले सीएसके की टीम ने हर सीजन में कम से कम प्लेऑफ का सफर जरूर तय किया है।

आईपीएल 2020- महेंद्र सिंह धोनी पर भड़के ब्रायन लारा, कहा माही के इस गलती की वजह से प्लेऑफ से बाहर हुई चेन्नई 2

आईपीएल के इस सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स का प्रदर्शन चैंपियन वाला नजर ही नहीं आया। जिसमें टीम ने अधिकतर मौको पर अपने फैंस को काफी ज्यादा निराश किया और उन्हें बाहर का रास्ता देखना पड़ा।

ब्रायन लारा ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स की हार का कारण

चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल की एक ऐसी टीम है जो सबसे ज्यादा उम्रदराज मानी जाती है। इस टीम की औसतन उम्र ही 30 वर्ष की है, टीम में अनुभव की कोई कमी नहीं है लेकिन युवा जोश नजर नहीं आता है।

चेन्नई सुपर किंग्स

इस सीजन में सीएसके की हार के पीछे काफी हद तक टीम के स्लो होने को बड़ा कारण माना जा रहा है, जिसमें ज्यादा उम्र वाले खिलाड़ी अपना पूरा प्रयास नहीं कर पाते हैं। इसी को दिग्गज बल्लेबाज ब्रायन लारा ने भी बड़ा कारण माना।

युवा खिलाड़ियों के ना होने से सीएसके को मिला हार

वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज ब्रायन लारा ने कहा कि “चेन्नई सुपर किंग्स टीम में काफी उम्रदराज खिलाड़ी हैं। युवा खिलाड़ी दिखते ही नहीं। विदेशी खिलाड़ी भी लंबे समय से खेल रहे हैं। इस टीम ने अनुभव को युवाओं पर तरजीह दी लेकिन वो खराब प्रदर्शन का कारण रहा।”

आईपीएल 2020- महेंद्र सिंह धोनी पर भड़के ब्रायन लारा, कहा माही के इस गलती की वजह से प्लेऑफ से बाहर हुई चेन्नई 3

लारा ने आगे कहा कि “ये सीजन उनके लिए बहुत खराब रहा। हर बार टीम मैदान पर उतरती तो हम दुआ करते थे कि इस मैच से पासा पलट जाएगा। मैच दर मैच हम उम्मीद लगाए रहे कि धोनी अब टीम को जीत तक ले जाएंगे लेकिन बस उम्मीदें ही रह गई। अब ऐसी स्थिति है कि उनका फोकस अगले साल के लिए टीम बनाने पर रहना चाहिए। बाकी मैचों में युवाओं को मौके मिलने चाहिए।”