क्रिकेट जगत के लिए बुरी खबर, भारत के खिलाफ डेब्यू मैच में ही शतक ठोकने वाले दिग्गज खिलाड़ी का निधन 1

भारत के खिलाफ 1965 में टेस्ट डेब्यू करने वाले न्यूजीलैंड टीम के ऑलराउंडर ब्रूस टेलर का निधन हो गया है। ब्रूस टेलर ने अपने डेब्यू मैच में सनसनी मचाई थी, क्योंकि उन्होंने भारत के खिलाफ कोलकाता के ईडन गार्डेंस मैदान पर पहले तो शतक ठोका था और फिर गेंदबाजी करते हुए पांच विकेट चटकाए थे। इसी यादगार मैच के लिए उनको जाना जाता है, लेकिन शनिवार 6 फरवरी को न्यूजीलैंड टीम के इस पूर्व ऑलराउंडर का निधन हो गया।

भारत के खिलाफ डेब्यू मैच में ही ठोका था शतक

क्रिकेट जगत के लिए बुरी खबर, भारत के खिलाफ डेब्यू मैच में ही शतक ठोकने वाले दिग्गज खिलाड़ी का निधन 2

77 साल की उम्र में ब्रूस टेलर ने इस दुनिया को अलविदा कहा है। न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी है कि ब्रूस टेलर का निधन हो गया है। आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि भारत के खिलाफ 1965 में टेस्ट डेब्यू करते हुए 8वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक ठोकने वाले ब्रूस टेलर ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में कभी सेंचुरी नहीं जड़ी थी, लेकिन कोलकाता में खेले गए उस मैच में उन्होंने 14 चौके और 3 छक्कों की मदद से शतक जड़ा था।

105 रन की पारी खेलने के बाद जब वे गेंदबाजी करने उतरे तो उन्होंने 86 रन देकर भारत के पांच बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा था। हालांकि, अगली पारी में उनकी बल्लेबाजी नहीं आई और वे बिना गेंद खेले नाबाद लौटे, जबकि गेंदबाजी में भी उनको मौका नहीं मिला था। मैच बेनतीजा रहा था, लेकिन ब्रूस टेलर को दुनिया ने जाना था। 4 साल के बाद उन्होंने न्यूजीलैंड के लिए सबसे तेज टेस्ट शतक ठोकने का रिकॉर्ड बनाया था, जिसे 36 साल बाद डैनियल विटोरी ने तोड़ा था।

न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने जताया दुःख

क्रिकेट जगत के लिए बुरी खबर, भारत के खिलाफ डेब्यू मैच में ही शतक ठोकने वाले दिग्गज खिलाड़ी का निधन 3

न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने बयान जारी करते हुए कहा,

“न्यूजीलैंड क्रिकेट (NZC) को 77 साल की उम्र में ऑलराउंडर ब्रूस टेलर के निधन का गहरा दुख है। हमारी संवेदनाएं उनके परिवार और करीबी दोस्तों के साथ हैं।”

ब्रूस टेलर ने न्यूजीलैंड के लिए 1965 से 1973 तक कुल 30 टेस्ट मैच खेले थे, जिनमें उन्होंने दो शतक और 2 अर्धशतकों के साथ 898 रन बनाए थे, जबकि बतौर गेंदबाज उन्होंने 111 विकेट अपने नाम किए थे। 2 वनडे मैच भी उन्होंने कीवी टीम के लिए खेले थे।