बीसीसीआई

कोरोना वायरस के बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया। इस सफल दौरे की शुरुआत भारतीय क्रिकेट टीम के नजरिए से भले ही कुछ खास अच्छी ना रही हो, लेकिन फिर भारत ने जबरदस्त वापसी करते हुए टी20आई और फिर टेस्ट सीरीज को अपने नाम कर शानदार अंत किया। इस दौरे को लेकर अब क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बीसीसीआई को एक खुला पत्र लिखा है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने लिखा खुला पत्र

कोरोना वायरस के चलते लगभग 6 महीने तक क्रिकेट कार्यक्रमों पर रोक लग गई थी। इसके बाद क्रिकेट ने दोबारा मैदान पर वापसी की और एक के बाद एक इवेंट हो रहे हैं। इसी क्रम में भारतीय क्रिकेट टीम ने भी ऑस्ट्रेलिया का एक सफल दौरा किया। इस दौरे के खत्म होने के बाद क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया की तरफ से बीसीसीआई को इस यादगार टूर के लिए शुक्रिया कहा गया।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने लिखा- “क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया हमेशा ही दोस्‍ती निभाने के लिए बीसीसीआई का शुक्रगुजार रहेगा। बीसीसीआई ने सीरीज का अच्‍छे से संचालन करने के लिए हमपर पूरा विश्‍वास और वचनबद्धता दिखाई।”

कोरोना काल में जब हर कोई परेशान है इस सीरीज के माध्‍यम से हम बीसीसीआई की मदद से करोड़ों फैन्‍स के चेहरे पर मुस्‍कुराहट ला पाए। अंतरराष्‍ट्रीय टूर का आयोजन करने के लिए इस वक्‍त एक अलग तरह की चुनौती सामने आ रही है। भारतीय टीम, कोचिंग स्‍टाफ और सपोर्ट स्‍टाफ का पूरी तरह से सहयोग करने के लिए शुक्रिया।”

भारत के लिए यादगार रहा ऑस्ट्रेलिया दौरा

भारतीय क्रिकेट टीम और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के बीच इस दौरे की शुरुआत एकदिवसीय सीरीज के साथ हुई थी। जहां, एकदिवसीय सीरीज में भारत को 1-2 से हार का सामना करना पड़ा। मगर इसके बाद भारतीय टीम ने शानदार वापसी की और टी20आई सीरीज को 2-1 से अपने नाम कर लिया।

इसके बाद भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई बॉर्डर-गावस्कर सीरीज को तो विश्व क्रिकेट हमेशा एक रोमांचक व यादगार सीरीज के रूप में याद रखेगा। इस सीरीज की शुरुआत एडिलेट टेस्ट मैच के साथ हुई थी, जहां टीम इंडिया सिर्फ 36 रन पर ही सिमट गई थी। मगर इसके बाद बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में जिस तरह से भारत ने वापसी की वह काबिल ए तारीफ रहा। फिर सिडनी टेस्ट  मैच को भारत ने ऐतिहासिक तरीके से ड्रॉ कराया, ये ड्रॉ ऐसा था मानो ये भारत के लिए बड़ी जीत था।

गाबा टेस्ट जीतने के साथ जीती बॉर्डर-गावस्कर सीरीज

बीसीसीआई

भारतीय क्रिकेट टीम के कई खिलाड़ी टेस्ट सीरीज के दौरान चोटिल हुए, जिसके बाद गाबा टेस्ट मैच में तो भारत की युवा खिलाड़ियों से बनी टीम मैदान पर उतरी। इस टीम ने वो कर दिखाया, जो किसी ने कभी कल्पना भी नहीं की थी।

गाबा में ऑस्ट्रेलिया के 33 वर्षों के विजयरथ को रोका। जी हां, 1988 के बाद भारत पहली टीम बनी जिसने ऑस्ट्रेलिया को गाबा में मात दी। इस मैच को जीतने के साथ ही भारत ने ऐतिहासिक तरीके से बॉर्डर-गावस्कर सीरीज को 2-1 से अपने पास बरकरार रखा।