जब एक भारतीय ने मारा ऐसा छक्का जो एक शहर से दुसरे शहर में चला गया 1

वर्तमान समय में खेल के प्रारूप में आये बदलाव और नियमों में हुए बदलाव की वजह से चौके-छक्के लगाना आसान हो गया है, लेकिन जब क्रिकेट की शुरुआत हुई थी तब ऐसा बिलकुल भी नहीं था.

यह भी पढ़े: चौथे टेस्ट मैच से पहले विराट कोहली का बड़ा बयान

जब क्रिकेट की शुरुआत हुई थी, उस समय चौके-छक्के लगाना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं होता था, लेकिन ऐसे समय में एक भारतीय बल्लेबाज ने ऐसा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है, जो आज तक कभी नहीं टूट पाया, न ही इस रिकॉर्ड के टूटने की सम्भावना है.

20150930042522कर्नल कोटारी कनाकैया नायडू (सीके नायडू) जो की भारत के पहले टेस्ट में कप्तान थे, उन्होंने भारत के लिए 7 टेस्ट और 207 प्रथम श्रेणी मैच खेले है, उन्होंने अपना आखिरी प्रथम श्रेणी मैच 69 साल की उम्र में खेला था.

यह भी पढ़े: धोनी ने दिखाया था इन 3 खिलाड़ियों कों टीम से बाहर का रास्ता, जिनकी वजह से बने थे कप्तान

उन्होंने प्रथम श्रेणी करियर में 11825 रन, औसत 35 की औसत थी और 26 शतक है. और 411 विकेट भी लिए है.

उनके पहले मैच में उनके हाथ में चोट लगी थी लेकिन उन्होंने 40 रन बनाए थे.जब वे इंग्लैंड दौरे पर थे, तब उन्होंने एक सिक्स लगाया था, जो कि नदी के उपर से मारा था और वो वर्वीकशेयर की सीमा से व्रस्टेशेयर चला गया था.और वे इतिहास के पहले बल्लेबाज थे, जिन्होंने एक शहर से दूसरे शहर छक्का लगाया था.

यह भी पढ़े: अपने इस सबसे बड़े दुश्मन की वजह से ही क्रिकेट जगत में आज राज कर रहे है धोनी

 

 

मै कृष्णा सिंह sportzwiki में एडिटर के तौर पर कार्यरत हूँ, स्पोर्ट्स से शुरू से ही मेरा...

2 replies on “जब एक भारतीय ने मारा ऐसा छक्का जो एक शहर से दुसरे शहर में चला गया”