आईपीएल 2021

भारत में दिन प्रतिदिन कोरोना का संकट बढ़ता जा रहा है, भारत में प्रतिदिन लाखों मामले सामने आ रहे हैं. हालांकि अभी तक आईपीएल एससे अछूता था, लेकिन सोमवार को आईपीएल पर भी कोरोना का साया पड़ गया है. कोलकाता और चेन्नई सुपरकिंग्स के कई खिलाड़ी और सदस्य कोविड पाजिटिव पाए गए. जिसके बाद कल होने वाले आरसीबी और केकेआर के बीच होने वाले मैच को भी स्थगित कर दिया गया है.

आजाद ने कही ये बातः

बीसीसीआई पर भड़का यह भारतीय खिलाड़ी कहा तुरंत बंद कर देना चाहिए आईपीएल 1

आजाद ने इनसाइडस्पोर्ट को दिए साक्षात्कार में कहा है कि मुझे लगा था कि वो लोग बायो बबल में हैं और बाकी लोगों से ज्यादा सुरक्षित है. और वो लोग क्रिकेट खेलकर देश के लोगों को मनोरंजन कर रहे हैं. बबल में रहते कोरोना मामला सामने आना दुर्भाग्यपूर्ण है. ऐसे में साफ तौर पर स्पष्ट है कि कहीं ना कहीं खामी जरुर रह गई. ऐसे में इस समय इसको तत्काल प्रभाव से रोक देना चाहिए.

बायो बबल भी सुरक्षित नहींः

DDCA

गौरतलब है कि कोलकाता नाइट राइडर्स के वरुण चक्रवर्ती और संदीप वारियर कोविड पाजिटिव आए थे, इस दौरान ये दोनों लोग स्कैन के लिए अस्पताल गए थे तो हो सकता है कि वहीं पर ही ये दोनों लोग संक्रमित हुए हों.

वहीं चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाड़ी और कई सदस्य संक्रमित पाए गए, हालांकि इसमें पुष्टि नहीं हो पाई कि ये दोनों लोग कहां से संक्रमित हुए हैं. संभावना है कि ये लोग डीडीसीए के ग्राउंड स्टाफ के संपर्क में आने के बाद संक्रमित हुए हों.

केकेआर और चेन्नई के खिलाड़ी हुए संक्रमितः

बीसीसीआई पर भड़का यह भारतीय खिलाड़ी कहा तुरंत बंद कर देना चाहिए आईपीएल 2

खिलाड़ी और स्टाफ दूसरी फ्रेंचाइजियों के भी संपर्क में रहते हैं ऐसे में ये संभावना है कि ये मामले आगे और बढ़े. आजाद ने इस दौरान कहा कि खिलाड़ी इस समय सुरक्षित नहीं है और ही बीसीसीआई-आईपीएल द्वारा बनाया गया बबल भी सुरक्षित नहीं है. उन्होंने कहा कि आप 6 दिनों तक कोरोना का पता नहीं लगा सकते हैं. सातवें दिन आपको पता चलता है.

केकेआर और सीएसके टीम के साथ जो हुआ है वो कहीं ना कहीं सुरक्षा में कमी के चलते हुआ है और जो बायो बबल के बारे में सोचा गया था वैसा नहीं है. आजाद ने कहा कि बीसीसीआई की सुरक्षा में ढील रही है. और जो कोरोना मामले सामने आए हैं वो खतरनाक है.

कोरोना का जो स्ट्रेन है जिसका हाल ही में पता चला है कि वो काफी खतरनाक है. इसलिए इसे पूरी तरह से बंद किया जाना चाहिए और ये भी देखना चाहिए कि इससे किसी को भी कोई परेशानी ना हो.