मौजूदा समय के इस भारतीय बल्लेबाज के सामने कभी भी बल्लेबाजी नहीं करना चाहते महेला जयवर्धने 1

विश्व क्रिकेट में जसप्रीत बुमराह एक ऐसे गेंदबाज बनकर उभरे हैं. जिनका सामना कोई भी बल्लेबाज नहीं करना चाहता है. दुनिया के बड़े-बड़े से बल्लेबाजों को जसप्रीत बुमराह ने अपनी गेंदबाजी से मुश्किल में डाल दिया है. अब उनकी तारीफ श्रीलंका क्रिकेट के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज और मुंबई इंडियंस में उनके कोच महेला जयवर्धने ने की है.

महेला जयवर्धने ने की जसप्रीत बुमराह की तारीफ

मौजूदा समय के इस भारतीय बल्लेबाज के सामने कभी भी बल्लेबाजी नहीं करना चाहते महेला जयवर्धने 2

श्रीलंका क्रिकेट के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज और मुंबई इंडियंस के कोच महेला जयवर्धने ने जसप्रीत बुमराह की तारीफ की है. एक इंटरव्यू में जयवर्धने से पूछा गया की आज के इस गेंदबाज के सामने आप बल्लेबाजी करते हुए सहज नहीं महसूस करते तो उन्होंने बिना समय लिए जसप्रीत बुमराह का नाम ले लिया.

उन्होंने कहा की यदि जसप्रीत बुमराह मुझे गेंदबाजी करते तो मुझे उनका सामना करने में परेशानी होती. जसप्रीत बुमराह टेस्ट क्रिकेट और सीमित ओवरों की क्रिकेट में भी बहुत ही शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. बुमराह के योर्कर मारने की क्षमता के तो सभी कायल हैं.

मौजूदा समय के इस भारतीय बल्लेबाज के सामने कभी भी बल्लेबाजी नहीं करना चाहते महेला जयवर्धने 3

केन विलियमसन से भी प्रभावित दिखे महेला जयवर्धने

मौजूदा समय के इस भारतीय बल्लेबाज के सामने कभी भी बल्लेबाजी नहीं करना चाहते महेला जयवर्धने 4

इसी इंटरव्यू में जब जयवर्धने से पूछा गया की आज के कौन से बल्लेबाज में वो अपनी छवि देखते हैं तो उन्होंने कुछ देर सोच कर न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन का नाम लिया. केन विलियमसन के शांत स्वभाव के मुरीद जयवर्धने खुद को बताते हैं.

केन विलियमसन ने विश्व कप 2019 में बहुत ही शानदार प्रदर्शन करके प्लेयर ऑफ़ द टूनामेंट का पुरस्कार भी जीता था. इस समय केन विलियमसन श्रीलंका के खिलाफ सीरीज खेलने के लिए उनके ही सरजमी पर मौजूद हैं. महेला जयवर्धने ने अंतराष्ट्रीय करियर में बहुत सारे रिकॉर्ड बनाए. जयवर्धने ने 2011 विश्व कप के फाइनल मैच में शतक लगाया था.

कई बड़े रिकॉर्ड बनाए हैं इस दिग्गज खिलाड़ी ने

महेला जयवर्धने

 

अपने क्रिकेट करियर के दौरान महेला जयवर्धने ने श्रीलंका क्रिकेट टीम के लिए 600 से ज्यादा मैच खेले हैं. जिसमें उन्होंने 25,000 से ज्यादा रन बनाए. जिसमें 54 शतक और 134 अर्द्धशतक शामिल हैं. इस दिग्गज खिलाड़ी ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से 2015 विश्व कप के बाद संन्यास लिया था. उसके बाद ये खिलाड़ी कोचिंग के काम में लगा हुआ है.