पेट पालने के लिए यह क्रिकेटर कचौरी बेचने पर हुआ मजबूर

आज के समय में क्रिकेट की दुनिया में पैसे की कोई कमी नहीं है| वर्तमान समय में क्रिकेट खिलाड़ियों की बात करें तो कोई भी ऐसा खिलाड़ी नहीं है जिसके पास पैसे की कोई कमी हो, लेकिन एक ऐसा क्रिकेट खिलाड़ी भी है जो आज अपनी पेट पालने के लिए मूंग की कचौरियां बेच रहा है|

यह कहानी गुजरात के 30 वर्षीय इमरान शेख की है| इमरान शेख मूक-बधिक क्रिकेटर हैं और इसी श्रेणी के क्रिकेट में विश्वकप जैसे बड़े टूर्नामेंट में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं| इमरान की शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उनको टीम का कप्तान बनाया गया था|

आज से 10 साल पहले इमरान शेख ने बहुत ही नाजुक मौके पर अर्द्धशतक लगा कर भारत को विश्व चैंपियंस बनाने में मदद की थी| और आज उसी इमरान शेख को भुला दिया गया है| और आज के समय में यह धुरंधर खिलाड़ी बडोदरा के ओल्ड पदरा रोड पर कचौरिया बेच रहा है|

 

इमरान शेख ने मीडिया से बात करते हुए कहा, कि क्रिकेट उनका शौक है और वो आगे भी खेलना चाहते हैं| उन्होंने कहा, कि उनकी वित्तीय स्थिति इस समय ठीक नहीं है| और मूक बधिक क्रिकेट में पैसा भी नहीं है| इसलिए वो कचौरियां बेच रहे हैं|

इमरान शेख ने बताया की उनकी बीबी भी उनके इस काम मदद करती है| और उन्हें गुजरात रिफाइनरी में अस्थाई नौकरी भी मिल गयी है| उन्होंने बताया कि वो 15 साल के उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिए थे| वो टीवी पर मैच देखते और ग्राउंड में जा कर प्रैक्टिस किया करते थे| और कुछ समय बाद उनकी मुलाक़ात कोच नित्येंद्र सिंह से हुई| और उन्होंने ही इमराम की प्रतिभा को निखारा और विश्वस्तर पर खेलने लायक बनाया| 

Related Topics