CWC 2019: जोस बटलर ने किवी खिलाड़ियों को लेकर कही ऐसी बात

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

CWC 2019: जोस बटलर ने किवी खिलाड़ियों को लेकर कही ऐसी बात, जीत लिया करोड़ों फैंस का दिल 

CWC 2019: जोस बटलर ने किवी खिलाड़ियों को लेकर कही ऐसी बात, जीत लिया करोड़ों फैंस का दिल

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का फाइनल मुकाबला 14 जुलाई रविवार को लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेला जा गया। 100 ओवर के खेल के बाद अंत में दोनों ही टीमों का स्कोर 241-241 रहा जिससे मैच टाई हो गया था। इसके बाद विजेता चुनने के लिए सुपर ओवर खेला गया।

सुपर ओवर में भी यह मैच टाई हो गया। फिर आईसीसी के नियमानुसार सर्वाधिक बाउंड्री लगाने वाली इंग्लैंड टीम को विजेता घोषित किया गया।

जोस बटलर ने जताई किवी खिलाड़ियों से सहानुभूति

इंग्लैंड की यह जीत 44 साल के इंतजार के बाद मिली है। इस बात से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि उनके खिलाड़ियों व फैंस के लिए यह जीत कितनी अधिक महत्वपूर्ण होगी।

वहीं यदि न्यूजीलैंड की बात करें, तो बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद वह ट्रॉफी उठाते-उठाते रह गए। इसपर विजेता टीम के बल्लेबाज-विकेटकीपर जोस बटलर ने न्यूजीलैंड से सहानुभूति जताते हुए कहा,

किवी खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया, वह फाइनल में हारने लायक बिल्कुल नहीं थे।

बटलर ने आगे कहा,

“फाइऩल में पहुंची दोनों ही टीमों में से कोई भी हारने के लायक नहीं है। वास्तव में यह मुश्किल मैच रहा।”

वर्ल्ड कप इतिहास में पहली बार खेला गया सुपर ओवर

विश्व कप फाइनल में पहली बार सुपर-ओवर देखा गया, जिसमें इंग्लैंड विजयी रहा क्योंकि उन्होंने 14 जुलाई को अपने पहले मैच में 50 ओवर का खिताब जीतने के लिए मैच में अधिक चौके लगाए थे। 50 ओवर का मैच और सुपर ओवर की कार्रवाई दोनों ही टाई हो गए। सुपर-ओवर में, इंग्लैंड ने 15 रन बनाए। साथ ही उन्होंने न्यूज़ीलैंड को 15 रन पर ही रोक लिया। 50 ओवर के खेल में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड दोनों ने 241 का स्कोर दर्ज किया।

जब पूछा गया कि सुपर ओवर से बंधे होने के कारण उनके दिमाग में क्या चल रहा था, तो बटलर ने कहा कि यह मैच कुछ क्रिकेट का क्लासिक है, जिस पर यकीन नहीं हो रहा था।

“मैं कहूंगा कि यह उन खेलों में से एक है जो आप क्रिकेट क्लासिक्स पर देखते हैं और निश्चित रूप से विश्वास भी नहीं करते कि यह वाकई हो सकता है।

50 ओवर में हम अच्छा खेले। फिर बाद में सुपर ओवर में भी हमने अपना 100 प्रतिशत दिया। हमारे खिलाड़ियों द्वारा मारी गई अधिक बाउंड्रीज ने हमें जीत दिला दी।”

कम बाउंड्री के कारण न्यूजीलैंड नहीं जीत सकी खिताब

पहले बल्लेबाजी करते हुए न्यूजीलैंड ने 241 रन बनाये थे। लक्ष्य का पीछा करते हुए इंग्लैंड भी अपने 50 ओवर के बाद इतने ही रन बना पाया। सुपर ओवर में भी दोनों ही टीमों ने 15-15 रन ही बनाए।

पूरे मैच में इयोन मोर्गन की टीम ने बाउंड्री चौके लगाए। इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के 17 की तुलना में 26 बाउंड्री मारने की वजह से पहली बार टूर्नामेंट अपने नाम किया। वहीं लगातार दूसरी बार न्यूजीलैंड का सपना टूट गया।

Related posts