दानिश कनेरिया ने कहा, मैंने कभी मुल्क को नहीं बेचा

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भावुक हुए दानिश कनेरिया बोले- मेरे हाथ-पैर काट दिए, अब आप क्या चाहते हैं कि जान दे दूं… 

भावुक हुए दानिश कनेरिया बोले- मेरे हाथ-पैर काट दिए, अब आप क्या चाहते हैं कि जान दे दूं…

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के लिए खेलने वाले हिंदू धर्म के दानिश कनेरिया इन दिनों चर्चा का मुद्दा हैं. शोएब अख्तर द्वारा पाकिस्तान क्रिकेट टीम में धर्म को लेकर भेदभाव होने की बात के बाद दानिश कनेरिया ने खुद के साथ हुए भेदभाव के बारे में खुलासा किया. अब खिलाड़ी ने भावुक होते हुए एक नए वीडियो शेयर कर अपनी भावनाएं साझा की हैं.

मेरे हाथ-पैर काट दिए, अब चाहते हैं….

शोएब अख्तर

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने दानिश कनेरिया शुक्रवार को कहा था कि कनेरिया ने पाकिस्तान में सभी विश्वसनीयता खो दी है और वह पैसे के लिए कुछ भी कर सकते हैं. इसपर अब कनेरिया ने जवाब देते हुए लिखा,

जो लोग कह रहे हैं कि मैंने यह सस्ती प्रसिद्धि के लिए और अपने यू-ट्यूब चैनल के लिए किया है, मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि मैंने ऐसा नहीं किया, शोएब अख्तर ने मेरे खिलाफ भेदभाव की बात राष्ट्रीय टेलीविजन पर कही. मुझे रिटायर होने के बाद से क्रिकेट समुदाय और टेलीविजन चैनलों द्वारा दुर्व्यवहार किया गया है.

कुछ लोग चैनलों पर बैठकर मेरे खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं. इन लोगों ने मेरे हाथ-पैर काट दिए, रोजी-रोटी छीन ली. अब और क्या करू जान दे दूं?”

मैंने टीम को अपना खून दिया

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के लिए 61 टेस्ट मैच खेलने वाले दानिश कनेरिया ने आगे कहा,

लोग कह रहे हैं कि मैंने 10 साल तक पाकिस्तान के लिए खेला. लेकिन मैंने अपने खून की कीमत पर 10 साल तक खेला. मैंने क्रिकेट पिच को खून दिया. मैंने तब भी गेंदबाजी की जब मेरी अंगुलियां फूल गईं.

मैंने अपने देश को कभी नहीं बेचा

दानिश कनेरिया

राष्ट्रीय टीम में पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर के सम्मानपूर्वक टीम में वापसी करने की बात करते हुए कहा,

“यहां तो लोगों ने मैच फिक्सिंग में मुल्क को बेच दिया. मैंने ऐसा नहीं किया. मैच फिक्सिंग में सजा काटने वाले टीम में वापस आए, उनका स्वागत हुआ. मेरे रिश्तेदार अनिल दलपत ने भी पाकिस्तान के लिए क्रिकेट खेला.

आप उनसे पूछिए, उन पर क्या गुजरी थी. मैं  10 साल से बेरोजगार हूं. मेरा भी परिवार है. किसी ने मेरी मदद नहीं की.”

Related posts