डेविड वॉर्नर

साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने कहा है कि इंडियन प्रीमियर लीग की टीम सनराइजर्स हैदराबाद द्वारा डेविड वॉर्नर को कप्तानी से हटाए जाने के बाद हो सकता है कि वॉर्नर आखिरी बार टीम में देखने को मिलें. हैदराबाद फ्रेंचाइजी ने डेविड वॉर्नर को कप्तानी से हटाकर केन विलियमसन को टीम की कमान सौंपी है. फ्रेंचाइजी ने डेविड वॉर्नर को कप्तान से हटाने के अलावा उन्हें राजस्थान के खिलाफ प्लेइंग XI से भी बाहर कर दिया.

डेविड वॉर्नर पर डेल स्टेन का बड़ा बयान

डेविड वॉर्नर

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मुकाबले में डेविड वॉर्नर को प्लेइंग इलेवन से हटाए जाने पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

स्टेन ने क्रिकइंफो से कहा,

” यह अजीब है कि वह प्लेइंग इलेवन का हिस्सा नहीं हैं. यह समझ में आता है कि वे अगले सीजन के लिए कप्तानी बदलना चाहते हैं, और केन (विलियमसन) को वहां रखना चाहते हैं. लेकिन डेविड वॉर्नर अभी भी एक अभूतपूर्व बल्लेबाज है और मैं उन्हें अभी भी प्लेइंग XI में रखूंगा. लेकिन यह आखिरी बार हो सकता है जब हम ऑरेंज आर्मी में वॉर्नर को देखें. “

डेविड वॉर्नर से पहले टीम के बल्लेबाज मनीष पांडे को 25 अप्रैल को दिल्ली कैपिटल के खिलाफ बाहर रखने के फैसले पर सवाल उठाया था।

डेल स्टेन ने हैदाबाद टीम मैनेजमेंट पर उठाए सवाल

डेविड वॉर्नर

 

डेविड वॉर्नर के अलावा डेल स्टेन ने मनीष पांडे को भी टीम से बाहर किए जाने पर सवाल खड़े किए हैं. अफ्रीकी गेंदबाज ने कहा,

” मुझे नहीं पता कि डेविड ने कुछ फैसलों पर सवाल उठाए होंगे, हो सकता है जब मनीष पांडे को बाहर कर दिया गया था. कभी-कभी, प्रबंधन इस बात की सराहना नहीं करता है. टीम के कप्तान को भी अपनी टीम का स्वामित्व लेने की जरूरत है. ऐसा लगता है कि निश्चित रूप से बंद दरवाजे के पीछे कुछ हो रहा है, जो जनता को पता नहीं है.”

हालांकि मनीष पांडे को टीम से बाहर किए जाने पर कप्तान डेविड वॉर्नर और कोच ने भी हैरानी जताई थी.

आईपीएल 2021 में सनराइजर्स हैदराबाद का प्रदर्शन

डेविड वॉर्नर

आईपीएल 2021 में सनराइजर्स हैदराबाद का प्रदर्शन बेहद ही खराब रहा है. टीम ने अभी तक 7 मैच खेले हैं जिसमे उसे सिर्फ 1 में जीत और 6 में हार मिली है. अंक तालिका में टीम सबसे नीचे पायदान पर है.

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ डेविड वॉर्नर की जगह केन विलियमसन को टीम का कप्तान बनाया गया मगर इसके बाद भी टीम की हार का सिलसिला नहीं थमा.प्लेऑफ में जगह बनाने की टीम की संभावनाएं अब बिल्कुल ना के बराबर हैं.