corona

दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग आईपीएल ( IPL) का बिगुल बजने में बस 3 दिन बचे हैं. और इसके 10 मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले जाने हैं. दिल्ली कैपिटल्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच पहला मुकाबला 10 अप्रैल को इसी मैदान पर होना है. लेकिन, इस स्टेडियम के साथ तो जैसे कुछ भी अच्छा नहीं होना है. पिछले हफ्ते स्टेडियम के 10 स्टाफ को कोरोना हो चुका है. अब एक और नई खबर आई है कि वानखेड़े के 3 और ग्राउंड्समैन कोरोना से संक्रमित हो गये हैं. यह वायरस फिर से अपने पैर पसार रहा है.

2 ग्राउंडमैन और एक प्लंबर हुए पॉजिटिव

wankhede mumbai IPL

आईपीएल (IPL) के 14 वें संस्करण के 10 मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर खेले जाने हैं. लेकिन, आईपीएल से पहले पिछले कुछ हफ्ते काफी बुरे बीते हैं. कुछ दिन पहले ही यहां काम करने वाले 10 लोग कोरोना से संक्रमित पाए जा चुके हैं. जिन्हें क्वारंटीन किया गया. हालांकि सोमवार को उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है. अब यह मामला खत्म नहीं हुआ था कि स्टेडियम में काम करने वाले 3 और लोगो में कोरोन वायरस की पुष्टि हुई है. जिनमें से 2 ग्राउंड्समैन हैं और 1 प्लंबर है. आयोजन शुरू होने के सिर्फ 3 दिन पहले ही इनकी रिपोर्ट आते ही बीसीसीआई की चिंता बढ़ गई है.

आईपीएल (IPL)खिलाड़ी भी हो चुके हैं संक्रमित

corona players

देश में कोरोना के बढ़ते प्रकोप का शिकार सिर्फ स्टाफ ही नहीं बल्कि आईपीएल (IPL) में खेलने वाले क्रिकेटर भी हो चुके हैं. कोलकाता नाईट राइडर्स के बल्लेबाज नितीश राणा, दिल्ली कैपिटल्स के अक्षर पटेल और रोयल चैलेंजर्स बैंगलोर के सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल भी कोरोना से संक्रमित पाए जा चुके हैं. इनके साथ ही मुंबई के एक होटल में ठहरे स्टारस्पोर्ट्स के 14 क्रमचारियों की भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है. इतने बढ़ते हुए मामलों की वजह से आईपीएल के आयोजन पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं.

12 लाख से ज्यादा हैं कोरोना के केस

corona patient

दुनिया भर में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में भारत भी इसकी चपेट में आ चुका है. आपकी जानकारी के बता दूं कि देश में अभी तक कुल 12 लाख 70 हजार कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं. जिसमें से 5.5 लाख से भी ज्यादा केस अकेले महाराष्ट्र से आये हैं. हां देश कोरोना से ठीक होने वालों की भी संख्या थोड़ी राहत देने वाली है. भारत में अब तक 11 लाख 70 हजार लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं. पूरे देश में हर दिन लगभग 1 लाख केस सामने आ रहे हैं.