Deepak Chahar

भारत और श्रीलंका (INDIA vs SRI LANKA) के बीच खेले गए इस दूसरे वनडे मुकाबले में दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने अपनी गेंदबाजी में तो भारत के लिए अहम भुमिका ही है साथ ही अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी की शैली से भी सभी को हैरान कर दिया है. दरअसल, मंगलवार को खेले गए इस मुकाबले में दीपक ने भारत के लिए ऐसे समय में अर्धशतकीय पारी खेली है जब पूरी टीम को इस पारी की जरूरत थी.

यही एक बड़ी वजह भी रही है कि इस मुकाबले में दीपक चाहर (Deepak Chahar) को “मैन ऑफ द मैच” चुना गया है. हालांकि, दीपक ने मैच के बाद हुई बातचीत में भारतीय टीम के कोच राहुल द्रविड़ की तारीफ कुछ बात कहीं हैं जिनमें साफतौर पर समझा जा सकता है कि दीपक अपनी इस विस्फोटक पारी का पूरा श्रेय कोच द्रविड़ को दे रहे हैं. तो चलिए पढ़ते हैं दीपक मे क्या कहा है..

राहुल सर ने मुझसे कहा था सारी गेंदे खेलना- Deepak Chahar

IND vs SL: दीपक चाहर ने पलटी हारी हुई बाजी, नाबाद फिफ्टी ठोककर श्रीलंका को दी शिकस्त, भारत ने जीती सीरीज | IND vs SL 2nd ODI Deepak chahar Suryakumar fifties Indian

भारत की इस जीत में अहम रोल निभाने वाले दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने अपनी गेंदबाजी विभाग के साथ-साथ बल्लेबाजी में भी अपने जौहर दिखा दिए हैं. जिसके लिए उन्हें “मैन ऑफ द मैच” भी चुना गया है. लंबे अर्से बाद भारत के लिए इस अवॉर्ड को हासिल करने वाले दीपक ने जानिए क्या कहा..

“हमारी गेंदबाजी के शुरूआती कुछ ओवरों के दौरान कुछ कैच छुटे थे, जिससे एक वक्त पर टीम में गर्मी का माहौल पैदा हो गया था, मगर फिर हमनें सब बेहतर किया और 2 विकेट भी चटकाए. जिसके चलते हमारी टीम में श्रीलंकाई पारी को 270 तक रोकने में सफल रही और देखा जाए तो यह स्कोर काफी अच्छा था. हमारी बल्लेबाजी के दौरान मेरे दिमाग में बस एक ही ख्याल चल रहा था कि में कब बल्लेबाजी करने जाऊं जो कि हर एक युवा खिलाड़ी का सपना होता है कि अपने देश के लिए ऐसी परिस्तिथियों में जाकर रन बनाए.”

“इससे बेहतर तरीके से देश के लिए मैच जीतना कोई नही है, राहुल द्रविड़ सर ने मुझसे कहा था जब मैं बल्लेबाजी के लिए आ रहा था कि सारी गेंदे खेलों, मैं इंडिया ए के लिए भी ऐसे खेल चुका हूं तो उन्हें मुझ पर विश्वास था और अंत में यही गेम चेंजर साबित हुए. हमारे पास बेहतरीन बैटिंग लाइन अप है और मैं उम्मीद करता हूं कि मुझे अगले मुकाबले में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिले, यह मेरे लिए पहला मौका था और मैं बस एक एक गेंद को खेल रहा था, मगर जब गेम 50 ओवर के अंदर आया तो मेनें विस्फोटक बल्लेबाजी का फैसला किया और उस एक सिक्स ने मेरा आत्मबल और बड़ा दिया था.”

For decades, cricket has been considered the gentleman’s game. Fine pitch, critical bouncers, twist and turns, sweeps and lofts and running shoes all around. A game of elite class as well as exciting...