मनोज तिवारी के कहने पर देवांग गाँधी को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

इस भारतीय खिलाड़ी के विरोध के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर 

इस भारतीय खिलाड़ी के विरोध के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर

राष्ट्रीय टीम के चयनकर्ता देवांग गांधी को गुरुवार को बंगाल और आंध्र प्रदेश के बीच चल रहे रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान ईडन गार्डन में अनधिकृत प्रवेश के चलते बंगाल टीम के ड्रेसिंग रूम से बाहर निकाल दिया गया. इंडिया टुडे के मुताबिक बीसीसीआई के भ्रष्टाचार विरोधी अधिकारी सौमेन कर्मकार ने देवांग गांधी को इसलिए ड्रेसिंग रूम से बाहर निकाला. क्योंकि उन्होंने बिना अनुमति प्रवेश किया था.

क्यों किया गया देवांग गाँधी को ड्रेसिंग रूम से बाहर

इस भारतीय खिलाड़ी के विरोध के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर 1

बीसीसीआई के कानून के मुताबिक जो खिलाड़ी मैच के लिए चुने गए हैं अथवा जो टीम के सपोर्ट स्टॉफ हैं उनके अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति ड्रेसिंग रूम में प्रवेश नहीं कर सकता है. बंगाल के वरिष्ठ खिलाड़ियों द्वारा भ्रष्टाचार विरोधी प्रोटोकॉल के बारे में सवाल उठाए जाने के बाद यह घटना घटी है.

बंगाल के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी ने कहा हमें पालन करना होगा भ्रष्टाचार विरोधी प्रोटोकॉल

 

इस भारतीय खिलाड़ी के विरोध के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर 2

“हमें भ्रष्टाचार विरोधी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा. जिसमें साफ़ लिखा है कि एक राष्ट्रीय चयनकर्ता ड्रेसिंग रूम में खिलाडियों से बिना अनुमति के नहीं मिल सकता है. केवल खिलाड़ी और अधिकारी जिनके पास प्रवेश द्वार पर मग-शॉट ( एक तरह का पहचान पत्र) हैं, वे ही ड्रेसिंग रूम में पहुंच सकते हैं.”

मनोज तिवारी ने इस सारे विवाद से पर्दा हटाते हुए कहा-

इस भारतीय खिलाड़ी के विरोध के बाद राष्ट्रीय चयनकर्ता को किया गया ड्रेसिंग रूम से बाहर 3

देवांग इलाज के कुछ काम के कारण बंगाल के फिजियो से मिलने के लिए ड्रेसिंग रूम में गए थे. जो मुझे पसंद नहीं आया, क्योंकि कोई भी व्यक्ति चाहें वो बड़ा अधिकारी ही क्यों न हो टीम के ड्रेसिंग रूम में प्रवेश नहीं कर सकता. मैंने देवांग गाँधी के इस कानून के उल्लंघन वाली हरकत की शिकायत जैसे ही भ्रष्टाचार विरोधी अधिकारी से की, देवांग को ड्रेसिंग रूम छोड़ने के लिए कहा गया.

देवांग गांधी का भी पक्ष आया सामने

वहीँ अगर बीसीसीआई के राष्ट्रिय चयनकर्ता की बात मानें तो उनका इस पर अलग पक्ष है. देवांग का कहना है कि वह चिकित्सा कक्ष में थे और वहीँ पर उन्होंने फिजियो को बुलाया था. जबकि मनोज तिवारी का कहना है कि देवांग गाँधी उनके ड्रेसिंग रूम में आये थे.

Related posts