IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल ने किया खुलासा, शतक के करीब पहुंचकर कप्तान विराट कोहली से हुई थी ये बात 1

आईपीएल 2021 के 16वें मैच में देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) की शानदार शतकीय पारी के दम पर रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम ने टूर्नामेंट में लगातार चौथी जीत दर्ज की. इस मैच में कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी का फ़ैसला किया. पहले बल्लेबाज़ करते हुए राजस्थान की टीम के लिए शिवम दुबे और राहुल तेवतिया ने शानदार पारियाँ खेली.

मै कोरोना से उबरने के बाद अपनी पारी का इंतजार कर रहा था: देवदत्त पडिक्कल

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल ने किया खुलासा, शतक के करीब पहुंचकर कप्तान विराट कोहली से हुई थी ये बात 2

इस मैच में शानदार बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) के शतकीय पारी खेलने वाले पडिक्कल ने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. कोविड के बाद वापसी करते हुए शतक लगाने वाले देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) ने मैन ऑफ़ द मैच चुने जाने के बाद पोस्ट-मैच प्रेज़ेंटेशन में विस्तार से बात की.

मैच के बाद देवदत्त ने कहा,

“ईमानदारी से कहूं तो यह बहुत ही खास है मेरे लिए, मैं जो कर सकता था वो था अपनी बारी आने का इंतजार। जब मुझे कोरोना हुआ, तो मैं बस इसी एक चीज के बारे में सोच रहा था, कि कब मुझे मौका मिले और मैं खेलने के लिए उतरूं. जब मैंने अपना पहला मैच मिस किया तो वाकई बहुत ज्यादा दुख हुआ था. यह विकेट बहुत ही ज्यादा अच्छी थी और हमने जब साझेदारी बनानी शुरू की तो यह और भी बेहतर होता चला गया.”

मेरा शतक बने या न बने आप रन बनाओ टीम जीतनी चाहिए: देवदत्त पडिक्कल

IPL 2021: देवदत्त पडिक्कल ने किया खुलासा, शतक के करीब पहुंचकर कप्तान विराट कोहली से हुई थी ये बात 2

देवदत्त ने 51 गेंद पर अपने आइपीएल करियर का पहला शतक बनाया. यह टूर्नामेंट का कुल 63वां शतक था और आरसीबी की तरफ से लगाया गया 14वां शतक. 52 गेंद पर 11 चौके और 6 छक्के की मदद से उन्होंने 101 रन की पारी खेली. राजस्थान के खिलाफ 10 विकेट से जीत हासिल कर आरसीबी ने विजय क्रम जारी रखते हुए लगातार चौथी जीत हासिल की.

उन्होंने आगे कहा कि

“नहीं ऐसे कोई चिंता नहीं थी कि मेरा शतक कब आएगा, मैंने विराट कोहली से कहा था कि आप रन बनाने पर ध्यान दें. आखिर में अगर मैं शतक नहीं भी बना पाता हूं तो मेरे लिए इतनी कोई बड़ी बात नहीं होगी, जो बात बड़ी है वो यह कि हमारी टीम को जीत मिलनी चाहिए. हम दोनों के बीच जो बातचीज हुई वह बिल्कुल साफ थी, हम दोनों को ही इस बात पता चल गया था कि कब अच्छी बल्लेबाजी हो रही है. एक वक्त आया जब वह बहुत ही शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे, तो कभी मैं काफी अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था. हम बस स्ट्राइक बदलते रहना चाह रहे थे.”