धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े! | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े! 

धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े!

महेंद्र सिंह धोनी…एक ऐसा नाम जिसने भारत में क्रिकेट के दीवानों को इतने तोहफे दिए जितने इससे पहले कोई और कप्तान नहीं दे पाया. आपको भी याद होगा लम्बे बालों वाला वो लड़का जो निचले क्रम में आकर भारत से छिन रहे मैचों को अपनी ताबड़ तोड़ बल्लेबाजी से अपने पक्ष में खींच लेता था. यॉर्कर गेंद पर छक्का मारने की कला देखकर बड़े-बड़े गेंदबाजों के पसीने छूट जाते थे.

धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े! 1

एक ऐसा बल्लेबाज जो बड़े शॉट लगाने के लिए टाइमिंग का मोहताज नहीं था, बाजुओं में इतनी ताकत थी कि फील्डर माही के शॉट रोकने के प्रयास को व्यर्थ समझने लगे थे. वह निचले क्रम में आकर शतक लगाने वाले दुनिया के एक मात्र बल्लेबाज हैं और दुनिया के बेस्ट फिनिशर में धोनी का नाम सबसे आगे रहा है. जिंदगी की यात्रा में शुक्रवार को धोनी ने 36 साल की उम्र का पड़ाव पार कर लिया. ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट में खिलाड़ियों और बोर्ड के बीच विवाद को लेकर इंग्लैंड के दिग्गज माइकल वॉन ने खिलाड़ियों के पक्ष में दिया बड़ा बयान

उम्र के इस पड़ाव पर धोनी के सामने कई चुनौतियां खड़ी हो गई हैं. वह अगले वर्ल्डकप तक टीम में बने रहना चाहते हैं लेकिन उनके सामने कई परेशानियां हैं. आइये धोनी के सामने आने वाली इन्हीं मुश्किलों के बारे में आपको बताते हैं –

लुप्त हुई मैच फिनिशिंग की कला – 

धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े! 2

एम. एस. अपने 300 वनडे मैच पूरे करने से सिर्फ चार मैच दूर हैं, लेकिन दुनिया के सबसे अच्छे मैच फिनिशर कहे जाने वाले धोनी पर हाल ही में वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत को मिली हार के बाद सवाल खड़े होने लगे हैं. धोनी ने इस मैच में अपनी पारी के दौरान 114 गेंदों पर नाबाद 52 रन बनाए थे. यह मैच भारत की पकड़ में था और सभी को लग रहा था कि भारत इस मैच में आसानी से जीत दर्ज कर लेगा लेकिन धोनी की धीमी पारी के कारण ऐसा नहीं हो सका. इस भारतीय क्रिकेटर की पत्नी है सबसे खुबसूरत, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कर चुकी है भारत का प्रतिनिधित्व

धोनी की उम्र ने उनकी ताकत को ही उनकी कमजोरी भी बना दिया है. अब टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या जैसा विस्फोटक फिनिशर आ चुका है, इसलिए आगामी वनडे वर्ल्डकप तक धोनी के टीम में टिके रहने की राह मुश्किल हो गई है.

क्या 2 साल तक टिके रह पायेंगे – 

धोनी के लिए आसान नहीं है अगला वर्ल्डकप खेलने की राह, टीम इंडिया में बने रहने के रास्ते में हैं ये रोड़े! 3

धोनी की मौजूदा फॉर्म को देखते हुए यह सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या धोनी 2019 तक खेल पायेंगे. हालांकि चैम्पियंस ट्रॉफी के दौरान धोनी विराट को जिस तरह गाइड कर रहे थे, उसे देखकर लगता है कि अब भी वह टीम के बहुत काम आ सकते हैं. चयनकर्ताओं की भी फिलहाल उन्हें हटाने की हिम्मत नहीं हो रही है लेकिन पूर्व दिग्गज खिलाड़ी और जूनियर टीम के कोच राहुल द्रविड़ का कहना है कि अब बोर्ड को धोनी और युवराज जैसे सीनियर खिलाड़ियों के बारे में फैसला लेना चाहिए. क्रिकेट का मैदान छोड़ अब संगीत की दुनिया में उतरे हरभजन सिंह

2019 विश्वकप के समय धोनी 38 साल के होंगे. क्या वह उस समय मैच जीतने में भारत के काम आ सकेंगे. फिलहाल वह बल्लेबाजी करने के दौरान जूझते दिखाई देते है लेकिन फिटनेस और विकेटकीपिंग आज भी उनकी ताकत है. धोनी को टीम में बने रहने के लिए खुद को युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत से बेहतर साबित करना होगा. बोर्ड को भी जल्द ही वर्ल्ड कप की कोर टीम तैयार करने के लिए फैसले लेने होंगे. ऐसे में साफ़ है कि उनके लिए आगे की राह आसन नहीं है.

Related posts