इस कारण से महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 तक के विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास 

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास

भारतीय क्रिकेट इतिहास में महेन्द्र सिंह धोनी का योगदान कभी ना भूलने वाला रहा है। पूर्व कप्तान एम एस धोनी ने अपनी कप्तानी में भारतीय क्रिकेट को खासी सफलता दिलायी है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए करीब 9 साल तक कप्तानी का जिम्मा उठाया और इन सालों में भारतीय क्रिकेट का पूरे क्रिकेट जगत के सामने परचम लहराया।

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास 1

महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने की है खास सफलता हासिल

महेन्द्र सिंह धोनी के कप्तानी कौशल का प्रभाव भारतीय क्रिकेट में जबरदस्त रहा है। उनकी कप्तानी में भारत ने कई बड़े टूर्नामेंट अपने नाम किए। जिसमें उनकी कप्तानी की शुरूआत ही साल 2007 के विश्व टी-20 चैंपियन बनने के साथ हुई। उसके बाद से तो उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक के बाद एक भारत को कई जीत दिलायी।

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास 2

2019 विश्व कप के बाद लगायी जा रही है संन्यास की अटकले

अब समय बदल गया है। ये दिग्गज भारतीय क्रिकेट का कप्तान रहा अब अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर है। अब उनके संन्यास लेने का समय नजदीक आता जा रहा है साथ ही अटकलें भी लगाई जा रही हैं कि धोनी किसी तरह से साल 2019 में होने वाले आईसीसी विश्व कप के बाद अपने करियर को अलविदा कह देंगे।

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास 3

विराट कोहली की कप्तानी में महेन्द्र सिंह धोनी का दिख रहा है खास प्रभाव

लेकिन क्या महेन्द्र सिंह धोनी के संन्यास लेने के बाद मौजूदा कप्तान विराट कोहली की आगे की राह आसान रहेगी?  क्योंकि धोनी ने भले ही कप्तानी छोड़ दी हो लेकिन इन दिनों सीमित ओवर की क्रिकेट में उनके कप्तानी अनुभव का प्रभाव साफ देखा जा सकता है। कहीं ना कहीं ये तक कह सकते हैं कि विराट कोहली को कप्तानी में धोनी की एक बहुत बड़ी मदद मिल रही है।

आखिर क्यों महेन्द्र सिंह धोनी को 2020 में होने वाले विश्व टी-20 तक नहीं लेना चाहिए संन्यास 4

इसी प्रभाव को देखते हुए धोनी को नहीं लेना चाहिए 2020 के विश्व टी-20 से पहले संन्यास

इस लीजेंड का कप्तानी का अनुभव विश्व कप 2019 में तो भारतीय टीम के काम आएगा लेकिन उसके तुरंत बाद 2020 में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले विश्व टी-20 के लिए भी धोनी का सहारा बहुत जरूरी माना जा रहा है। क्योंकि भारतीय टीम 2007 में हुए विश्व टी-20 के बाद से अब तक कोई विश्व टी-20 के खिताब पर कब्जा नहीं कर सकी है। ऐसे में दर्शकों के साथ ही भारतीय टीम भी दूसरी बार इस प्रतिष्ठित ट्रॉफी को जीतना चाहती है जिसमें धोनी की भूमिका खास रहेगी। ऐसे में यहीं कहेंगे कि धोनी कम से कम 2020 विश्व टी-20 तक तो संन्यास ना ले।

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आए तो प्लीज इसे लाइक और शेयर करें।

 

Related posts

Leave a Reply