महेंद्र सिंह धोनी के भाई का उनकी बायोपिक में न होने पर आया बड़ा बयान कहा.... 1

महेंद्र सिंह धोनी के जीवन पर बनी फिल्म, एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी 30 सितम्बर को सिनेमाघरों में रिलीज़ हुई. इस फिल्म में धोनी के बचपन से लेकर उनके क्रिकेट विश्वकप विजेता बनने तक के संघर्ष को दिखाया गया है.

धोनी पर बनी बायोपिक लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हो रही है. यह फिल्म केवल 2011 विश्वकप तक के सफ़र पर ही बनी है इसलिए इस फिल्म में कई ऐसी चीजें है जिन्हें जानते हुए भी इस फिल्म में जगह नहीं मिली.

धोनी की कप्तानी में 2013 में चैंपियंसट्राफी भारत ने जीती, और इसी साल हुए टी-20 विश्वकप में धोनी ने बांग्लादेश के खिलाफ आख़िरी ओवर में मुस्ताफिज़ुर रहमान को रन आउट कर भारत को एक रन से रोमांचिक जीत दिलाई थी.

यह भी पढ़े : अब बुरे फंसे महेंद्र सिंह धोनी प्रतिष्ठित कम्पनी ने लगाया धोखाधड़ी का आरोप

धोनी की फिल्म में एक और अहम चीज़ नदारद रही, और वो थे धोनी के बड़े भाई नरेंद्र सिंह धोनी. फिल्म में केवल इतना ही दिखाया गया है, की पान सिंह धोनी के केवल दो बच्चे थे एक महेंद्र सिंह धोनी और दूसरी उनकी नदी बहन. नरेंद्र सिंह धोनी जोकि महेंद्र के बड़े भाई के बारे में कोई ज़िक्र नहीं है.

द टेलीग्राफ ने नरेंद्र से एक इंटरव्यू लिया जिसमे उन्होंने बताया कि क्यों उन्हें फिल्म में नहीं दिखाया गया.

जब नरेंद्र से पूछा गया तो उनका इसपर सीधा सा जवाब था, कि यह निर्णय फिल्म के निर्माता का था इसमें मैं क्या कह सकता हूं.

महेंद्र सिंह धोनी के भाई का उनकी बायोपिक में न होने पर आया बड़ा बयान कहा.... 2

यह भी पढ़े : धोनी दी अनटोल्ड स्टोरी के बेस्ट सात डायलॉग्स, जों आप हर बार सुनना चाहेंगे

नरेंद्र ने बताया कि उन्होंने अभी तक फिल्म नहीं देखी है लेकिन बाकी दर्शकों की तरह वह भी इस फिल्म को देखने के लिए उत्सुक है. नरेंद्र का कहना था,

“माहि की ज़िन्दगी में मेरा कुछ खास योगदान नहीं रहा है. शायद यही एक कारण है, मुझे फिल्म में बिलकुल भी नहीं दिखाया गया. चाहे माहि के बचपन के दिन या फिर उनके संघर्ष भरे दिन या फिर जब वह दुनिया के लिए एमएसडी बन गये मैं उनके साथ नहीं था. यह फिल्म माहि के ऊपर बनी है उनके परिवार के ऊपर नहीं.”

“जब माहि ने पहली बार बैट थमा उस समय मैं अपनी पढ़ाई के लिए रांची से बाहर चला गया था, माहि की ज़िन्दगी में मेरा नैतिक योगदान रहा है लेकिन उसे स्क्रीन पर दर्शाने में निर्माता को काफी मुश्किल होती.”

अख़बार ने जब पूछा कि क्या उन्होंने कभी धोनी को क्रिकेट खेलते देखा है या नहीं उनके स्कूल के समय या उसके बाद तो इस पर नरेंद्र ने बताया कि मैंने उन्हें क्रिकेट खेलते हुए देखा है जब भी मैं छुट्टियों में घर पर रहता था. मुझे याद है कि जब धोनी ने सीनियर टूर्नामेंट में पर्दापण किया था और एक ओवर में 5 चौके मारे थे उस मैच के दौरान भी मैं वह मौजूद था.

नरेंद्र ने अंत में कहा कि हम दोनों के बीच रिश्ते आम भाइयों की तरह है, और हम सभी को उनपर गर्व है.

Ajay Pal Singh

सभी खेलों में दिलचस्पी है लेकिन सबसे पसंदीदा खेल क्रिकेट, पसंदीदा खिलाड़ी विराट...