कल भारत और साउथ अफ्रीका के बिच खेले जा रहे दूसरा टेस्ट मैच वारिश की वजह से रद्द हो गया, जिसके बाद भारतीय कप्तान कोहली ने इसे लेकर काफी निराशा जताया, कप्तान कोहली इससे काफी नराज दिखे, अगर वारिश न होती, तो भारतं यह मैच आसानी से जीत सकता था.

गौरतलब है, कि बंगलौर में पहले 3 दिन का खेल हो पाया था, उसके बाद अगले 3 दिन लगातार मूसलाधार वारिश, हुई हालाँकि चौथे दिन खेल शुरू होने की सम्भावना थी, लेकिन उस दिन भी हल्की बूंदाबांदी के मैच आयोजको ने मैच रद्द कर दिया.

पिछले काफी समय से खराब फार्म के कारण आलोचना का शिकार रहे धवन का बचाव करते हुये विराट ने कहा, “यदि तीन टेस्ट मैचों में कोई 173 और 134 रन की पारियां खेले और फिर भी आप उसे खराब बताएं तो मुझे नहीं पता कि फार्म क्या होती है, अपने आखिरी तीन टेस्टों में धवन ने गाले में और बंगलादेश में शतक बनाए थे, दुर्भाग्य से इसके बाद वह चोटिल हो गये”

धवन अभी भी शानदार फ़ार्म में है: कोहली 1

मोहाली टेस्ट में धवन भारत की दोनों पारियों में शून्य पर आउट हुये जिसके बाद उनकी फार्म सवालों के घेरे में रही, हालांकि ड्रा रहे बेंगलुरू टेस्ट में वह 45 रन पर नाबाद रहे. विराट ने कहा, धवन ने चोट के बाद मोहाली में अपना पहला ही टेस्ट खेला. इसलिये मात्र दो तीन खराब पारियों के बाद ही उनपर इतना सख्त होना ठीक नहीं है. यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट है और वह आगे कई पारियां खेलेंगे.
युवा टेस्ट कप्तान ने कहा कि धवन के पास देश के लिये टेस्ट मैच जीतने की क्षमता है लेकिन उन्हें लेकर थोड़ा धैर्य बरतने की जरूरत है. धवन प्रभावशाली खिलाड़यिों में हैं और उनके साथ कुछ धैर्य रखना होगा और उनपर भरोसा जताकर उन्हें प्रोत्साहित किये जाने की जरूरत है.

Leave a comment