बीजेपी में शामिल हुए सौरव गांगुली की खबर पर खुद दादा ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्या है वास्तविकता 1

आजकल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कोई भी अफवाह बड़ी आसानी और तेजी से फैल जाती है। किसी भी बात के तूल पकड़ने की देर हैं फिर वो बात चाहे सही हो या गलत उसे फैलने में देर नहीं लगती। अगर अफवाह किसी सेलीब्रेटी से संबंधित है तो उसे फैलने में बिल्कुल देर नहीं लगती है।

बीजेपी में गए दादा…!

बीजेपी में शामिल हुए सौरव गांगुली की खबर पर खुद दादा ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्या है वास्तविकता 2
फोटो क्रेडिट-गूगल

ऐसी ही एक अफवाह हाल ही में भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के बारे में भी सोशल मीडिया में काफी फैली और चर्चाएं बटौर रही है। दरअसल, इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा हो रही है सौरव गांगुली राजनीति में कदम रखने जा रहे हैं और भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करने जा रहे हैं।

सोशल मीडिया में फैली अफवाह

बीजेपी में शामिल हुए सौरव गांगुली की खबर पर खुद दादा ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्या है वास्तविकता 3
फोटो क्रेडिट-गूगल

सौरव गांगुली के भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करने की अफवाह काफी तेजी से फैलने लगी और सोशल मीडिया पर यह ख़बर ट्रोल भी करने लगी।

दरअसल, पश्चिम बंगाल में बीजेपी के एक फेसबुक पेज “पश्चिम बांगे बीजेपी चाय” (हम पश्चिम बंगाल में बीजेपी चाहते हैं) ने एक पोस्ट शेयर करते हुए क्लेम किया कि सौरव गांगुली ने बीजेपी ज्वाइन कर ली है। इस पोस्ट का कैप्शन बंगाली भाषा में था।

इस पोस्ट को अगर हिंदी भाषा में कहे तो इसमें लिखा था कि,

“पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो चुके हैं। पीएम मोदी के एंजेडा, सबका साथ और सबका विकास को एक बड़े ही ईमानदार व्यक्ति ने स्वीकार किया है। जिसे पूरा देश प्यार करता है। आज खुशी का दिन है… चलो इस ख़बर को शेयर करें..”

गांगुली ने दिया जबाव

बीजेपी में शामिल हुए सौरव गांगुली की खबर पर खुद दादा ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्या है वास्तविकता 4
फोटो क्रेडिट-गूगल

इस पोस्ट के डालते ही यह आग की तरह फैल गई, लेकिन सच कुछ और ही है। बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष सौरव गांगुली ना ही बीजेपी में शामिल हुए हैं और ना ही किसी और राजनैतिक पार्टियों में हुए हैं।

इस अफवाह के जबाव में सौरव गांगुली ने कहा कि,

“साल 2014 में उन्हें बीजेपी ने सीट ऑफर की थी, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था।”

 

गांगुली ने बताया कि,

“उनके सबसे बड़े पार्टनर सचिन तेंदुलकर की तरह उन्हें भी राज्यसभा की सीट ऑफर की गई थी, लेकिन उनका जबाव वहीं था, क्योंकि उनकी जगह क्रिकेट फिल्ड पर है संसद भवन में नहीं.”

Leave a comment