दिनेश कार्तिक T20 विश्वकप में बतौर फिनीशर वापसी को लेकर हैं आश्वस्त 1

भारतीय विकेट कीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक न्यूजीलैंड के खिलाफ 2019 विश्व कप के सेमी फाइनल मुकाबले में भारत की करारी हार के बाद से टीम से बाहर चल रहें हैं. 2019 विश्वकप के बाद कार्तिक क्रिकेट के किसी भी प्रारूप में अपनी जगह बनाने में असफल रहें हैं.

टी 20 में दिनेश कार्तिक का है शानदार प्रदर्शन

टी 20 में उनका प्रदर्शन बीते कुछ सालों से शानदार रहा है, निदहास ट्रॉफी का वो मैच फाइनल जिसने प्रशंसकों के साथ-साथ कई क्रिकेट एक्सपर्टस को भी हैरान कर दिया था। इस समय टीम इंडिया टी 20 क्रिकेट में अपने पुराने तरीके के खेल और पंत के कमजोर प्रदर्शन से जूझ रही है, इसलिए कार्तिक भारत के संकट का समाधान हो सकते हैं।

इस विकेटकीपर-बल्लेबाज का पिछले दो सालों में बल्लेबाजी औसत 57.00 का है और 2018 की शुरुआत के बाद से 18 T20Is में उनका स्ट्राइक रेट 160.56 है. दिनेश कार्तिक अपनी जगह अभी भी भारतीय टीम में देखते हैं. तमिलनाडु के कप्तान हाल ही में विजय हजारे ट्रॉफी में शानदार फॉर्म में थे, जहां उन्होंने 59.7 की औसत से 418 रन बनाए थे.

दिनेश कार्तिक ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा

“हमारे पास एक टी 20 विश्व कप है और मैं इस विश्वकप में भारतीय टीम के लिए फिनिशर की भूमिका निभाना चाहता हूं। मुझे विश्वास है कि मै फिनिशर की भूमिका अच्छे से निभा सकता हूँ. मैं तब भी टीम के लिए योगदान दे सकता है जब मध्य क्रम में अच्छी बल्लेबाजी की जरूरत आती है.

कार्तिक का ध्यान इस वक्त सैयद मुस्ताक अली ट्राफी में तमिलनाडु का नेतृत्व करने में है, जिसमें मुरली विजय, रविचंद्रन अश्विन जैसे खिलाड़ी हैं, कार्तिक का मानना ​​है कि एक अनुभवी खिलाड़ी के नाते मुझे ज्यादा जिम्मेदारी लेनी होगी, मेरी यही कोशिश होगी की मैं जब भी मैदान में कदम रखूँ तो टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करू.

तमिलनाडु टीम अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर रही

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में तमिलनाडु की किस्मत भी भारतीय टीम की तरह रही है। 2006-07 में ट्रॉफी की शुरुआत में जीतने के बाद से, वे अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन करने में असफल रही है, और अभी भी फाइनल में पहुंचने के लिए जूझ रही है,

कार्तिक मानते हैं कि तमिलनाडु टीम फ ख़िताब जीतने के लिए किसी की भी पसंदीदा नहीं है. हमारे टीम लाइन-अप में हमारे पास कुछ अच्छे टी 20 खिलाड़ी हैं। लेकिन हमने इस प्रारूप में अपनी क्षमता का प्रदर्शन नहीं किया है.

Leave a comment