मुंबई के इस खिलाड़ी को राहुल द्रविड़ ने बताया अगला सचिन तेंदुलकर | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

मुंबई के इस खिलाड़ी को राहुल द्रविड़ ने बताया अगला सचिन तेंदुलकर 

मुंबई के इस खिलाड़ी को राहुल द्रविड़ ने बताया अगला सचिन तेंदुलकर

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज़ राहुल द्रविड़ को जब से अंडर 19 और इंडिया ए के कोच के पद पर नियुक्त किया गया हैं, तब से निचले स्तर के क्रिकेट और घरेलू क्रिकेट के स्तर का मानो कायाकल्प ही हो गया हैं.

राहुल द्रविड़ की शानदार कोचिंग के कारण देश के युवा खिलाड़ियों को बहुत कुछ सीखने को मिल रहा हैं. यही नहीं पिछले कुछ समय में राहुल द्रविड़ की लाजवाब कोचिंग में खेलने वाले कई खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना यादगार डेब्यू कर चुके हैं. इन खिलाड़ियों में जयंत यादव, मंदीप सिंह, करुण नायर, हार्दिक पंड्या और ऋषभ पंत जैसे खिलाड़ी शामिल हैं. डॉक्टरेट की उपाधि को अस्वीकार करने वाले राहुल द्रविड़ के समर्थन में आए गौतम गंभीर 

अभी हाल में ही दिए अपने एक इंटरव्यू में इंडिया ए की टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने कहा, कि

”भारतीय टीम में युवा खिलाड़ियों के अच्छे प्रदर्शन को देखकर मैं खुश हूँ. क्रिकेट के खेल में यह जरुरी नहीं हैं, कि हर खिलाड़ी आपकों हर मैच में रन बनाकर दे या हर मैच में विकेट लेकर दे. अगर कोई युवा खिलाड़ी फ़ैल हो भी जाता हैं, तो इसका मतलब यह नहीं हैं, कि वो हिम्मत हार कर बैठ जायंगे. मैं आपकों बता दूँ, कि युवा खिलाड़ी अपनी गलतियों से सीखने में विश्वास रखते हैं.”

राहुल द्रविड़ ने आगे कहा, कि

”युवा खिलाड़ियों की नज़र हर बार अच्छा करने पर रहती हैं. पिछले कुछ समय से घरेलू क्रिकेट और इंडिया ए के खिलाड़ियों ने अपने अच्छे प्रदर्शन से भारतीय टीम में जगह बनाई है, तो कई खिलाड़ी लगातार चयनकर्ताओं की नज़रो में आ रहे हैं.”

अपनी भूमिका के बारे में बात करते हुए राहुल द्रविड़ ने कहा, कि

”बतौर कोच मैं अपनी भूमिका को एन्जॉय कर रहा हूँ. इंडिया ए और अंडर 19 को टीम में काफी नये चहरे सामने आये है.”विडियो : क्या आपने कभी राहुल द्रविड़ को गेंदबाज़ी करते और विकेट लेते देखा हैं

युवा पृथ्वी शॉ के बारे में बात करते हुए राहुल द्रविड़ ने कहा,

”पृथ्वी शॉ अभी बेहद ही युवा बल्लेबाज़ हैं और जिस तरह से उन्होंने रणजी ट्रॉफी में प्रदर्शन किया वह काबिले तारीफ रहा. मगर अभी उनको बहुत लम्बा सफ़र तय करना हैं. जिसके लिए मेरी जिम्मेदारी हैं, कि मैं उनको तैयार करू. मैं परिणामों की परवाह नहीं करता और अपने काम में यकीन रखता हूँ.”

Related posts