मयंक मार्कंडेय ने बताई ईशान किशन की स्लेजिंग के पीछे की सच्चाई, कहा हम दोनों...

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

मयंक मार्कंडेय ने बताया ईशान किशन स्टंप के पीछे से ये बाते बोल कर रहे थे स्लेजिंग 

मयंक मार्कंडेय ने बताया ईशान किशन स्टंप के पीछे से ये बाते बोल कर रहे थे स्लेजिंग

इंडिया रेड और इंडिया ग्रीन के बीच खेले जा रहे फाइन मैच की पहली इनिंग में मयंक मार्कंडेय ने अपना प्रथम श्रेणी का सर्वश्रेष्ठ स्कोर खड़ा किया। इस इनिंग में अपनी टीम के लिए 76 रनों की सर्वाधिक रनों की पारी खेलकर स्कोर को 231 तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। इस दौरान मयंक मार्कंडेय को ईशान किशन की स्लेजिंग से भी निपटना पड़ रहा था। ईशान उन्हें गलत शॉट खेलने के लिए उकसा रहे थे लेकिन मयंक ने अपना धीरज नहीं खोया।

मयंक मार्कंडेय को उकसाने के लिए स्लेजिंग कर रहे थे ईशान किशन

मयंक मार्कंडेय

फाइनल मैच की पहली इनिंग के दौरान विकेटकीपिंग कर रहे ईशान किशन बल्लेबाजी कर रहे मयंक मार्कंडेय के साथ मस्ती मजाक करते दिखे। वह मयंक को उकसा रहे थे कि वह शायद कोई चूक करें और उनकी टीम रेड उसका फायदा उठा लें। लेकिन मयंक भी ईशान का पैंतरा समझ गए थे और पूरे टाइम चेहरे पर मुस्कुराहट लेकर खेलते रहे। अब ईएसपीएनक्रिकइन्फो से बात करते हुए मयंक ने कहा,

हम बहुत अच्छे फ्रेंड हैं, बल्कि बेस्ट फ्रेंड्स हैं। मेरी आवाज माइक में रिकॉर्ड नहीं हुई थी, लेकिन हम दोनों शुरु से ही बात कर रहे थे। मैं उससे कह रहा था कि मैं शॉट नहीं खेलना चाहता, मैं पूरे दिन तुम्हें फील्ड पर बने रहने दूंगा।

और वह मुझसे कह रहा था कि मेरे पास ताकत ही नहीं है और फील्डर्स को करीब सेट कर रहा था। तुम फील्डर्स कहीं भी सेट कर लो मैं शॉट नहीं खेलूंगा। हमारी ये बातचीत अच्छी भावना के साथ हुई। यकीन मानिए, मैं अभी उसके साथ रात के खाने के लिए बाहर हूं।”

अंडर 16 से एक-दूसरे को जानते हैं मयंक-ईशान

मयंक मार्कंडेय ने बताया ईशान किशन स्टंप के पीछे से ये बाते बोल कर रहे थे स्लेजिंग 1

इंडियन प्रीमियर लीग में ईशान किशन और मयंक मारकंडे दोनों ही मुंबई इंडियंस के साथ खेलते हैं। वहीं से उनकी दोस्ती गहरी होना शुरू हुई लेकिन मारकंडे ने बताया कि वह अंडर 16 से एक-दूसरे को जानते हैं और तब से एक-दूसरे के खिलाफ खेल रहे हैं। हम एनसीए शिविरों में एक साथ रहे हैं, और फिर मुंबई इंडियंस में भी हम एक साथ थे। हमने भारत ए के लिए कई टूर्स पर भी एक साथ खेला है।

आखिर में मार्कंडेय ने कहा कि वह ईशान-किशन को यह वापस लौटाने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। मैं तब तक बोलूंगा जब तक वह बल्लेबाजी करेगा।

Related posts