फाइनल में शून्य पर ऑलआउट हो गई यह इंग्लिश टीम

मेलबर्न। क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है, और इसमें कभी भी कुछ भी हो सकता है। आज क्रिकेट के इतिहास में ऐसा ही कुछ हुआ है। क्रिकेट के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब पूरी टीम बिना कोई रन बनाए ऑलआउट हो गई हो। यह कारनामा इंग्लैंड के केंट की क्रिकेट टीम फाइनल मैच में हुआ, जब एक टीम शून्य पर ऑलआउट हो गई। इंग्लैंड के केंट में अनोखा रिकॉर्ड बनाने वाला यह मुकाबला बाप चाइल्ड क्रिकेट क्लब और क्राइस्टचर्च यूनिवर्सिटी के बीच खेला जा रहा था। न्यूज़ डॉट कॉम डॉट एयू की रिपोर्ट के मुताबिक क्राइस्टचर्च के स्पिनर माइक रोस ने कहा कि बाप चाइल्ड का शून्य पर ऑलआउट होना अविश्वसनीय लगा। क्राइस्टचर्च की टीम ने पहले बल्लेबाजी करने के बाद 120 रन से यह मुकाबला जीता।

बाप चाइल्ड के स्थानीय सितारा खिलाड़ी जोश हंट, डान पोमफ्रेट, जेम्स सटन, क्रिस हॉग, ओवेन हैरिसन और जेम्स वेलर एक भी रन नहीं बना सके। उसकी पूरी टीम शून्य पर आउट हो गई। क्राइस्टचर्च के गेंदबाज फ्रेजर मैकविन ने दो ओवर में तीन विकेट लिए जबकि फिलिप सेमंस ने 8 गेंदों में तीन विकेट चटकाए। आपको बता दें कि इंडोर क्रिकेट में एक टीम में कुल 6 खिलाड़ी खेलते हैं।

 

इससे पहले 1913 में समरसेट की पोशाक वाली हुईश और लेंगपोर्ट सीसी की टीम 11 खिलाडि़यों वाले आउटडोर मैच में ग्लेस्टन्बरी के खिलाफ एक भी रन बनाने में नाकाम रही थी। वहीं प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 1810 में लॉर्ड्स के पुराने मैदान पर बीज ने इंग्लैंड के खिलाफ न्यूनतम 6 रन का स्कोर बनाया था। बहरहाल, अन्तराष्ट्रीय टेस्ट में न्यूनतम रन पर ऑलआउट होने का रिकॉर्ड न्यूज़ीलैंड के नाम दर्ज है। कीवी टीम 1995 में ऑकलैंड में इंग्लैंड के खिलाफ दूसरी पारी में सिर्फ 26 रनों पर ऑलआउट हुई थी।

Related Topics